राज्य

पिता और सौतेली मां की पिटाई से तंग आकर बच्चों ने घर जाने से किया इनकार

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 20, 2017, 8:01 AM IST
पिता और सौतेली मां की पिटाई से तंग आकर बच्चों ने घर जाने से किया इनकार
सांकेतिक तस्वीर
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 20, 2017, 8:01 AM IST
जमुई नगर थाना में सोमवार की देर शाम एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. पिता की पिटाई से परेशान दो बच्चों ने अपने पिता के घर जाने से इनकार दिया. पिटाई का आरोप लगाते हुए बच्चों ने पुलिस के सामने ही अपने पिता के बजाए मामा के घर ही रहने की बात कही.

झारखंड के जसीडीह के रहने वाले चुन्नु पांडेय ने थाने में अपने दोनों बच्चों राहुल और अमन के लापता होने की सूचना दर्ज कराई थी. बच्चे अपने पिता की पिटाई से बचने के लिए जसीडीह से भाग कर जमुई अपने मामा के घर आ गए थे. पुलिस जब बच्चों को बरामद कर अपने साथ जसीडीह ले जानी चाही तो वो अपने मामा के घर ही रहने की जिद्द करने लगे.

राहुल और अमन अपने चचेरे भाई रोहित के साथ जसीडीह से भागकर अपने मामा के घर जमुई जिले के लोटन गांव आ गए थे. बच्चों का कहना है कि इनके पिता चुन्नु पांडेय ने दोनों की पिटाई की है. 12 से 14 साल की उम्र के इन दोनों भाईयों का कहना है कि इनके पिता इनके साथ हमेशा मारपीट करते रहते हैं. यही नहीं इनकी सौतेली मां भी इनके साथ बुरा बर्ताव करती है. इस कारण ये दोनों बच्चे अपने पिता के घर से भागकर मामा के घर आ गए.

जसीडीह के पांडेयडीह के रहने वाले इन दोनों बच्चों के पिता ने इनके लापता होने की सूचना पुलिस को दी थी. देवघर पुलिस के छानबीन के बाद पता चला कि दोनों बच्चे मामा के घर जमुई के लोटन गांव में हैं. इसके बाद देवघर पुलिस जमुई पहुंचकर दोनों बच्चों को बरामद कर पिता के घर ले जानी चाही. लेकिन जमुई थाने में ही पिता के सामने दोनों बच्चों ने पिता के घर जाने से मना कर दिया. पुलिस के लाख कोशिश के बाद भी बच्चे अपने मामा के घर ही रहने की जिद पर अड़े रहे.

दरअसल राहुल और अमन की मां की मौत बचपन में ही ग्यारह साल पहले हो गई थी. इसके बाद इनके पालन-पोषण का काम इन दोनों बच्चों के मामा अरविंद पांडेय ने 11 साल तक की थी. दो साल पहले इन दोनों बच्चों को इनके पिता अपने साथ जसीडीह लेकर चले गए थे. दोनों भाइयो के मुताबिक पिता के घर में इनकी सौतेली मां और इनके पिता अक्सर दोनों भाइयों के साथ मारपीट करते हैं.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर