राज्य

न्यूज18 की खबर पर मुहर: दलित समाज के रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद के एनडीए कैंडिडेट


Updated: June 19, 2017, 3:30 PM IST
न्यूज18 की खबर पर मुहर: दलित समाज के रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद के एनडीए कैंडिडेट
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रामनाथ कोविंद

Updated: June 19, 2017, 3:30 PM IST
भारतीय जनता पार्टी की संसदीय बोर्ड की मीटिंग खत्म हो गई है. बिहार के राज्यपाल राम नाथ कोविंद को एनडीए ने राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है. कोविंद के नाम की घोषणा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने की. न्यूज18हिंदी ने अपनी एक रिपोर्ट में पहले ही बता दिया था कि एनडीए किसी दलित नेता को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाएगी.

रामनाथ कोविंद मूल रूप से कानपुर, उत्तर प्रदेश से हैं. वह पिछले तीन साल से बिहार राज्यपाल के तौर पर काम कर रहे हैं.

राष्ट्रपति पद के लिए दलित-आदिवासी उम्मीदवार ला सकते हैं नरेंद्र मोदी

जानकारी के मुताबिक रामनाथ कोविंद 23 जून को नामांकन करेंगे. सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह ने बताया, एनडीए के सभी सहयोगियों के साथ चर्चा के बाद रामनाथ कोविद का नाम तय किया गया है. बताते चलें कि रामनाथ बीजेपी अनुसूचित मोर्चा के अध्यक्ष भी रहे हैं.

आडवाणी-जोशी को दी गई जानकारी
कोविंद के नाम की घोषणा से पहले एम वेंकैया नायडू ने भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को कोविंद के नाम तय होने की जानकारी दी. शाह ने बताया कि इस संबंध में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व पीेएम मनमोहन सिंह को इस संबंध में जानकारी दे दी गई है.

न्यूज18 हिंदी के लिए सुनील रमन ने एक्सक्लूसिव रिपोर्ट की थी.

22 को विपक्ष की बैठक, नीतीश ने दी बधाई
जानकारी के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष 22 जून को कांग्रेस के नेतृत्व में बैठक करेगा. माना जा रहा है कि इस बैठक में कोविंद को समर्थन देने या अपना नया उम्मीदवार घोषित करने को लेकर चर्चा होगी. उधर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रामनाथ कोविंद से बातकर उन्हें बधाई दी है.

अमित शाह ने और क्या कहा
शाह ने कहा, "देश के राष्ट्रपति का चुनाव होना है. सर्वोच्च पद के लिए सभी दलों से चर्चा की. इस दौरान कई नाम सामने आए, लेकिन राम नाथ कोविंद का नाम फाइनल किया गया है." नाम तय करने के बाद सभी सहयोगियों को सूचित किया गया है.

उपराष्ट्रपति के नाम की चर्चा नहीं
शाह ने बताया कि अभी उपराष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार का नाम तय नहीं किया गया है. शाह ने कोविंद के बारे में कहा, "वे दलित समाज के हैं, संघर्ष करके यहां तक पहुंचे हैं. वे वकील रहे हैं, भारत सरकार के वकील भी रहे हैं. उनका संसद की महत्वपूर्ण समितियों में विशेष योगदान रहा है. दलित समाज, छात्रों के लिए काम करते रहे हैं." शाह ने बताया कि कोविंद हमेशा गरीब, पिछड़ों और दलितों से जुड़े रहे हैं.

टीआरएस ने कोविंद को दिया समर्थन
जानकारी के मुताबिक कोविंद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, आन्ध्र प्रदेश के सीएम चन्द्रबाबू नायडू, तमिलनाडु के सीएम ई पलनिसामी से बातचीत की है. रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा होने के बाद टीआरएस ने उन्हें अपना समर्थन देने की घोषणा कर दी है.

कौन हैं रामनाथ कोविंद
कोविंद संघ के कद्दावर नेता रहे हैं. वह कई लीगल पदों पर काम कर चुके हैं. दो बार राज्यसभा से सांसद भी रहे हैं. मोदी सरकार ने तीन साल पहले उन्हें बिहार का राज्यपाल बनाया है.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर