'फरार' आईएएस ने नीतीश पर लगाए गंभीर आरोप

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 20, 2017, 9:34 PM IST
'फरार' आईएएस ने नीतीश पर लगाए गंभीर आरोप
सी के अनिल (फाइल फोटो)
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 20, 2017, 9:34 PM IST
बिहार में एसएससी पर्चा लीक का प्रकरण पेचीदा होने के साथ-साथ दिलचस्प भी होता जा रहा है. इस बहुचर्चित घोटाले में पुलिस की नजरों में 'फरार' चल रहे बिहार के सीनियर आईएएस सीके अनिल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और अन्य अफसरों पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

आईएएस सुधीर कुमार की गिरफ्तारी के बाद आईएएस सीके अनिल को एसआईटी खोज रही है हालांकि वे फरार चल रहे हैं. एसआईटी ने उन पर सहयोग नहीं करने का आरोप भी लगा चुकी है. सीके अनिल ने अब एक पत्र जारी किया है जिसमें आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार के इशारे पर उन्हें फंसाने की साजिश हो रही है.

ये भी पढ़ें- IAS सीके अनिल और IPS रत्‍न संजय ने दबोचा था शहाबुद्दीन का गिरेबान

सीके अनिल ने कहा कि सीएम के इशारे पर ही एसआईटी उन्हें परेशान कर रही है. सीके अनिल ने पूरे मामले में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह को पत्र लिख कर सीबीआई जांच की मांग की है.

पीएम को लिखा पत्र
पीएम को लिखा पत्र


सीके अनिल ने यह पत्र  मुंबई से जारी किया है. अनिल ने अपने पत्र में लिखा है कि एसआईटी लगातार मुझे फंसाने की साजिश कर रही है. सीएम और उनके प्रधान सचिव खुल कर मेरे खिलाफ साजिश कर रहे हैं. सीके ने खुद को बिहार स्टेट प्लॉनिंग बोर्ड का सलाहकार बताया है.

वो सीएम की अध्यक्षता वाली बीएसपीबी में 20 मई 2011 से कार्यरत हैं. पत्र के मुताबिक दिसंबर 2014 में उन्हें बिहार एसएससी के ओएसडी का अतिरिक्त प्रभार मिला. इसके बाद से अब तक उन्होंने एसएससी से किसी तरह का भत्ता नहीं लिया है.

सीके अनिल ने स्पाइनल इंजरी  की वजह से खुद को मेडिकल लीव पर होने की बात कही है और अपने फरार होने की बात बेबुनियाद बताया है. इस वरीय आईएएस ने लिखा है कि मैं अधिकृत अवकाश पर हूं. उन्होंने लिखा है कि मुझे 2016 में व्हिसिल व्लोअर बनने की सजा मिल रही है.
First published: April 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर