राज्य

एनसीईआरटी की किताबें दुकानों पर हैं नहीं, तो सीबीएसई के आदेश का पालन कैसे हो?

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 12:48 PM IST
एनसीईआरटी की किताबें दुकानों पर हैं नहीं, तो सीबीएसई के आदेश का पालन कैसे हो?
सांकेतिक तस्वीर
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 12:48 PM IST
सीबीएसई के स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबों को चलाने के निर्देश हैं, लेकिन बिहार के स्कूलों में इन निर्देशों का पालन नहीं हो रहा है. एनसीईआरटी की किताबें स्कूलों में पहुंचेंगी कैसे, जब वे बाजार से ही गायब हैं?

ये हाल सूबे के लगभग हर बुक स्टॉल का है. पटना के ज़्यादातर स्कूल सीबीएसई के हैं, लेकिन किताबें मार्केट से गायब हैं.

दूसरी तरफ अभिभावकों का कहना है कि निजी स्कूल अपने फायदे के लिए एनसीईआरटी की किताबों के बजाय विद्यार्थियों को प्राइवेट पब्लिशर्स की किताबों से पढ़ा रहे हैं. उनका कहना है कि निजी स्कूल प्राइवेट पब्लिशर्स की किताबों को एनसीईआरटी के सिलेबस पर आधारित ही बताते हैं, लेकिन सच ये है कि उनकी किताबें एनसीईआरटी के लेसन्स से हटकर हैं.

इन किताबों का मूल्य भी एनसीईआरटी की किताबों से 5 से 6 गुना तक अधिक होता है. आपको बता दें कि हाल ही में सीबीएसई ने सभी स्कूलों के लिए एडवाइज़री जारी करके किसी भी व्यवसायिक गतिविधि से दूर रहने को कहा था.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर