राज्य

बस्तर के लोगों ने किया कलेक्टर का घेराव, कहा- नगर पंचायत को वापस गांव बनाओ

Vinod Kushwaha | News18Hindi
Updated: March 20, 2017, 8:26 PM IST
बस्तर के लोगों ने किया कलेक्टर का घेराव, कहा- नगर पंचायत को वापस गांव बनाओ
एक तरफ जहां लोग गांव से शहर और शहर से जिला बनाने की मांग करते हैं. दूसरी तरफ जगदलपुर जिले एक इलाके के लोग इसलिए परेशान हैं कि वह नगर पंचायत से वापिस ग्राम पंचायत में जाना चाहते हैं.
Vinod Kushwaha | News18Hindi
Updated: March 20, 2017, 8:26 PM IST
एक तरफ जहां लोग गांव से शहर और शहर से जिला बनाने की मांग करते हैं. दूसरी तरफ जगदलपुर जिले एक इलाके के लोग इसलिए परेशान हैं कि वह नगर पंचायत से वापिस ग्राम पंचायत में जाना चाहते हैं.

मामला जिले के बस्तर ब्लाक के नगर पंचायत का है. स्थानीय वाशिंदे काफी लंबे समय से नगर पंचायत बन चुके बस्तर को ग्राम पंचायत में बदलना चाहते हैं. इस मांग को लेकर इससे पहले बस्तर नगर पंचायत के लोग प्रखंड कार्यालय में कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं. अब तक मांगे पूरी नहीं होने पर सोमवार को सैकड़ों ग्रामीणों ने जगदलपुर कलेक्ट्रिएट का घेराव किया. लोगों ने मांग की कि उन्हें वापिस ग्राम पंचायत में शामिल किया जाए.

दरअसल इस हंगामे की वजह ग्रामीण नगर पंचायत में लगनेवाले टैक्स को एक कारण मान रहे हैं. कलेक्टर से मिलने पहुंचे ग्रामीणों के मुताबिक बिना स्थानीय लोगों से पूछे ही ग्राम पंचायत से नगर पंचायत का दर्जा बस्तर को दिया गया.

इसके अलावा नगर पंचायत बनने से ग्रामीणों को तीन से चार हजार रुपये सालाना मकान टैक्स देना पड़ रहा है. घरों में नल कनेक्शन नहीं हैं. इसके बावजूद पानी टैक्स देना पड़ रहा है. नगर पंचायत की पूरी आबादी मजदूरी करने वाली है. ऐसे में ग्रामीण नगर पंचायत के नाम लग रहे टैक्स को गलत मान रहे हैं.

सुविधाओं के नाम नगर पंचायत में कुछ भी नहीं है. इसलिए ग्रामीण चाहते हैं कि नगर पंचायत बन चुके बस्तर को वापस ग्राम पंचायत कर दिया जाए. बिना किसी राजनीतिक दल के बैनर के काफी बड़ी संख्या में ग्रामीण कलेक्टर से मिलने पहुंचे.

इस दौरान बस्तर नगर पंचायत के करीब बाइस गांवों के ग्रामीण पहुंचे थे. सभी ने एक स्वर से नगर पंचायत को ग्राम पंचायत बनाने की मांग की. ग्रामीणों को कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि पांच अप्रैल को वह खुद बस्तर नगर पंचायत पहुंचकर ग्रामीणों से बात करेंगे.
First published: March 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर