राज्य

जिला पुरातत्व संग्रहालय के मार्गदर्शक ने कलेक्टर जनदर्शन में मांगी इच्छा मृत्यु

Abdul Aslam | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 20, 2017, 10:56 AM IST
जिला पुरातत्व संग्रहालय के मार्गदर्शक ने कलेक्टर जनदर्शन में मांगी इच्छा मृत्यु
जिला पुरातत्व संग्रहालय के मार्गदर्शक ने कलेक्टर जनदर्शन में मांगी इच्छा मृत्यु
Abdul Aslam | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 20, 2017, 10:56 AM IST
छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में जिला पुरातत्व संग्रहालय में मार्गदर्शक के पद पर पदस्थ हरिसिंह क्षत्री ने कलेक्टर जनदर्शन में इच्छा मृत्यु की मांग की है.

निर्धारित वेतन नहीं दिए जाने का आरोप लगाते हुए पीड़ित ने लोक समाधान शिविर में आवेदन किया था. लोक समाधान शिविर में समस्या का निराकरण नहीं होने पर मानसिक रूप से परेशान कर्मी ने अब इच्छा मृत्यु की मांग की है.

इसके लिए पीड़ित हरिसिंह क्षत्री ने जिला कलेक्टर मो.कैसर अब्दुल हक़, मुख्यमंत्री, राज्यपाल और राष्ट्रपति से लिखित ज्ञापन सौंपकर मांग की है. दरअसल, बीते 27 जुलाई 2008 को हरिसिंह क्षत्री का अनौपचारिक नियुक्ति देते हुए पुरातत्व विभाग ने मार्गदर्शक पद पर नियुक्त किया था.

कई आवेदन देने के बाद भी उसे पुरातत्व विभाग ने नियमित नहीं किया. इसे लेकर हरिसिंह क्षत्री ने बाद में मुख्यमंत्री से लेकर लोक समाधान शिविर में भी आवेदन किया,लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. इससे परेशान होकर हरिसिंह क्षत्री ने अब कलेक्टर जनदर्शन में इच्छा मृत्यु की मांग की है.

इधर, कलेक्टर ने शासन स्तर पर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है. जिला पुरातत्व संग्रहण के मार्गदर्शक  हरिसिंह क्षत्री का आरोप है कि नियमित वेतन नहीं मिलने से वो बेहद परेशान है. उनका कहना है कि पैसे की तंगी के कारण गर्भवती पत्नी का इलाज नहीं हो पाया, जिससे उनके बच्चे की मौत हो गई.

पीड़ित की मानें तो जहां चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को 10 हजार रुपए से ज्यादा वेतन मिल रहा है, वहीं उसे सिर्फ 8 हजार रुपए ही वेतन मिल रहा है.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर