राज्य

नुक्कड़ नाटक करके जागरुकता फैला रहे कलाकारों से नक्सली नाराज

Vivek Shrivastava | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 10:16 PM IST
नुक्कड़ नाटक करके जागरुकता फैला रहे कलाकारों से नक्सली नाराज
श्वेता पोद्दार,  इन्द्रधनुष की लेखिका फोटो- ईटीवी
Vivek Shrivastava | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 10:16 PM IST
छत्तीसगढ़ में लाल आतंक के विरोध में नुक्कड़ नाटक करके जागरूकता फैला रहे कलाकारों से नक्सली नाराज हैं . कई बार इन कलाकारों और नाटक की लेखिका को नक्सलियों ने धमकी भी दी है .

इसके बावजूद ये कलाकार अपनी मुहिम से पीछे नहीं हटे. इन कलाकारों का कहना है कि डर- डर कर जीने से अच्छा है कि कुछ करके मरें, जिससे लोगों का और देश का भला हो.

नक्सलवाद का दंश झेल रहे झारखंड और पश्चिम बंगाल के कलाकार नक्सलवाद के खिलाफ सरकार के साथ कदम ताल करते हुए लाल आतंक का विरोध कर रहे हैं .

महासमुंद और संवेदनशील जगहों पर अपने जीवंत नाटक दिखाकर नक्सलियों के खिलाफ बिगुल फूंकते हुए लोगों को जागरूक कर रहे हैं. झारखंड की श्वेता पोद्दार ने नक्सलियों के खिआफ इन्द्रधनुष नाटक लिखा है .

श्वेता ने बताया कि 2011 में नक्सली घटना में सीआरपीएफ के 11 जवान शहीद हुए उस घटना के बाद उन्होंने नक्सलवाद के खिलाफ कलम उठाई और इस तरह की स्टोरी लिखी है जिसके लिए कई बार इनकी टीम को नक्सलियों से धमकी भी मिल चुकी है. इसके बावजूद ये और इनकी टीम डरी नहीं है.

कभी बंगाल से जमीदारों के खिलाफ नक्लवाडी के नाम से शुरू हुआ संगठन आज विकास की राह में बाधक बन रहा है.  इसीलिए नक्सलवाद का विरोध बंगाल से ही शुरू हुआ .कलकत्ता से कलाकारोें को लेकर आए.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर