नियम तोड़ते ही गाड़ी का नंबर कैमरे में हो जाएगा कैद, 'तीसरी आंख' से हो रही निगरानी

Julfikar Ali | ETV MP/Chhattisgarh

Updated: March 20, 2017, 3:05 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

राजधानी रायपुर में यातायात की समस्या से निजात पाने के लिए तीसरी आंख से रखवाली का रोडमेप निगम और पुलिस ने तैयार कर लिया है. इस काम के लिए निगम और पुलिस मिलकर शहर के 69 चौराहों पर एएनपीआर (ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉर्डर) कैमरे लगाने जा रही है.

इस खास कैमरे के जरिए ट्रैफिक नियम तोड़ने वाली गाड़ियों पर नजर रखी जाएगी. इससे मिलने वाली तस्वीरों के जरिए पहले गाड़ी का नंबर निकाला जाएगा और फिर उसका ई चालान किया जाएगा.

नियम तोड़ते ही गाड़ी का नंबर कैमरे में हो जाएगा कैद, 'तीसरी आंख' से हो रही निगरानी
रायपुर में सड़क पर निगरानी के लिए लगा कैमरा

फर्राटे से दौड़ती गाड़ी का नंबर कैमरे में हो जाएगा कैद

ट्रैफिक डीएसएपी एएसपी हिरवानी का कहना है कि एएनपीआर हाईटेक कैमरा है. इसके जरिए ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई करने में आसानी होगी. इसमें किसी को बैठकर मैन्युली ऑपरेट करने की जरूरत नहीं होगी. कैमरा ऑटोमेटिक गाड़ी के नंबर पर फोकस करता है और ई चालान प्रिंटर से प्रिंट होगा. इस तरह का डिजीटल घेरा देश के बड़े शहरों में कारगर साबित हो रहा है.

शहर के चौक-चौराहों पर सीसीटीवी से हो रही निगरानी

गौरतलब है कि शहर के छोटे-बड़े 129 चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं और इन कैमरों के जरिए पुलिस ने मार्च से ई चालान का ट्रायल शुरू किया है. इसमें पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. पुलिस कंट्रोल रूम में रात में फुटेज खंगाले जाते हैं और उनके नंबर के आधार पर ई-चालान भेजा जाता है. बीते 15 दिन में पुलिस ने करीब 1000 चालान बनाएं लेकिन उनमें से अभी सिर्फ 200 को ही भेज पाई है.

First published: March 20, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp