राज्य

लड़कियों की गुमशुदगी में रायपुर नंबर वन

Avdhesh Mallick | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 20, 2017, 2:23 PM IST
लड़कियों की गुमशुदगी में रायपुर नंबर वन
छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर से पिछले तीन सालों में 355 लोग लापता हो चुके हैं. ये ऐसे लोग हैं जिनके बारे में पुलिस कुछ भी पता नहीं कर पाई है. इन लापता लोगों में नाबालिग लड़कियां, महिलाएं तथा युवा शामिल हैं.
Avdhesh Mallick | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 20, 2017, 2:23 PM IST
छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर से पिछले तीन सालों में 355 लोग लापता हो चुके हैं. ये ऐसे लोग हैं जिनके बारे में पुलिस कुछ भी पता नहीं कर पाई है. इन लापता लोगों में नाबालिग लड़कियां, महिलाएं तथा युवा शामिल हैं.

राज्य सरकार ने ऐसे लापता लोगों की पतासाजी के लिए एडीजी (सीआईडी) की अध्यक्षता में चार सदस्यीय टीम का गठन किया है. इस टीम में एक महिला सदस्य की नियुक्ति प्रस्तावित है. सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग की सचिव मेरी खेस्स ने इस आशय का आदेश 14 मार्च 2017 को जारी किया.

जारी आदेश के मुताबिक समिति के अध्यक्ष रायपुर पुलिस मुख्यालय के एडीजी (सीआईडी) होंगे. इसके अलावा सदस्य के रूप में सचिव महिला एवं बाल विकास विभाग और सेवानिवृत्त अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सीआईडी) आरसी श्रीवास्तव को सदस्य बनाया गया है.

गुम बच्चे व महिलाओं से संबंधित जनकल्याणकारी गतिविधियों में शामिल महिला की बतौर सदस्य नियुक्त की जाएगी. उल्लेखनीय है कि बिलासपुर से लापता 355 लोगों के मामले को लेकर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर हुई थी. जिसकी सुनवाई करते हुए मई 2016 में हाईकोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी किया था.

सरकारी आंकड़े के मुताबिक पिछले पांच सालों में राज्य से जितने बच्चे लापता हुए हैं उनमें सबसे ज्यादा रायपुर से 16.7 प्रतिशत बच्चे शामिल हैं. इसी तरह लड़कियों तथा महिलाओं की पिछले पांच सालों में राज्य से जितनी गुमशुदगी हुई है, उसका 16.9 प्रतिशत का आंकड़ा अकेले रायपुर से है.

गुमशुदगी में रायपुर पहले नंबर पर
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर जिले से साल 2010 से लेकर 6 फरवरी 2015 तक 2358 बच्चे, 3329 लड़कियां तथा महिलायें लापता हुई हैं. इस मामले में दूसरे नंबर पर बिलासपुर का नाम आता है जहां से पिछले पांच सालों में 1446 बच्चे, 1498 लड़कियां तथा महिलायें गायब हुई हैं. छत्तीसगढ़ से पिछले पांच सालों में कुल 14,118 बच्चे तथा 19,670 लड़कियां तथा महिलाएं लापता हुई हैं.
First published: March 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर