राज्य

सरगुजा में डॉक्टर ने दूर खड़े रहकर मैदान में कर दिया पोस्टमार्टम

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 11:39 PM IST
सरगुजा में डॉक्टर ने दूर खड़े रहकर मैदान में कर दिया पोस्टमार्टम
गणेश बेक, डॉक्टर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र,  बतौली फोटो- ईटीवी
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 11:39 PM IST
छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल सरगुजा जिले में एक डॉक्टर ने दूर खड़े रहकर मैदान में ही पोस्टमार्टम की औपचारिकता पूरी कर दी. शव को पोस्टमार्टम के लिए पोस्टमार्टम हाउस नही ले जाया गया. वाहन नहीं होने का बहाना बनाते हुए शव का पोस्टमार्टम जंगल में ही कर दिया गया.

शव तकरीबन तीन दिन पुराना था , लिहाजा शव बुरी तरह से खराब हो गया था.

डॉक्टर से इस अवमानवीय व्यवहार की वजह पूछने पर उन्होंने कहा कि उनके स्वास्थ्य केन्द्र में पोस्टमार्टम करने की व्यवस्था नहीं है. डॉक्टर  ने पोस्टमार्टम भी इतनी दूर से किया जहां से  शायद ही  उनको शव का कोई अंग भी  दिखा हो. खुले मे पोस्टमार्टम करके ये साबित कर दिया कि सरगुजा जैसे आदिवासी बाहुल्य जिले मे स्वास्थ व्यवस्था की बेहतरी के तमाम दावे खोखले हैं.

घटना  के अनुसाऱ बतौली थाना क्षेत्र के बनया गांव के अजय यादव  (25 ) का शव चिरगा गांव के घण्टाडीह जंगल मे मिला था.  युवक की पहचान उसकी मोटरसाइकिल के आधार पर हुई  जो जंगल के एक ग्रामीण सड़क पर पडी थी.

अजय यादव किसी प्रेस मे काम करता था और ज्यादातर काम करके अपने गांव वापस लौट जाता था लेकिन तीन दिन पहले वो गांव नही लौटा. इसी दौरान मृतक के पिता बीरेंद्र यादव को बतौली पुलिस से ये सूचना मिली कि आप के नाम से रजिस्ट्रर्ड मोटरसाइकिल चिरगा के जंगल मे एक पेड़ के नीचे पड़ी हुई है.

जिसके बाद  बीरेंद्र  ने पुलिस के साथ  खोजबीन की तो उनके बेटे का शव मोटरसाइकिल के आगे जंगल में एक पेड़ से लटका मिला.

 
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर