राज्य

आजादी के 70 साल बाद भी 300 दलित परिवार महसूस कर रहे गुलामी

News18Hindi
Updated: June 19, 2017, 11:23 AM IST
आजादी के 70 साल बाद भी 300 दलित परिवार महसूस कर रहे गुलामी
Photo- News18Hindi.com
News18Hindi
Updated: June 19, 2017, 11:23 AM IST
हरियाणा के गुरुग्राम का एक ऐसा गांव, जहां आजादी के 70 साल बाद भी 300 दलित परिवार अपने आपको गुलाम महसूस कर रहे हैं. दलित परिवार दबंगों पर प्रताड़ित करने का आरोप लगा रहे हैं. अधिकारी से लेकर विधायक, विधायक से मुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री तक को ये इस बाबत शिकायत कर चुके हैं. अब तो दलित परिवारों ने पलायन तक की चेतावनी हरियाणा सरकार को दी है.

गुरुग्राम-फरीदाबाद रोड पर बसे गांव बंधवाड़ी में रहने वाले 300 परिवारों मुश्किल में हैं. इस दलित बस्ती तक जाने के लिए सरकारी स्कूल के साथ से रास्ता जाता है. लेकिन थोड़ी आगे जाकर यह रास्ता कच्चा है. इस रास्ते पर मिट्टी है और रोड के बीच में से ही पानी की नालियां निकल रही हैं.

माॅनसून के दिनों में तो यहां हालत बद से बदतर हो जाती है. दलित परिवार का आरोप है कि गांव के कुछ दबंग लोग इस रास्ते को नहीं बनने दे रहे हैं. जमीन हड़पने के लिए गलत पैमाइश करवाई जा रही है और बरसात में बच्चों को स्कूल जाने में दिक्कत आती है.

दलित बस्ती के लोगों की मानें तो बस्ती में आने-जाने का बस एक यही रास्ता है. यदि किसी के घर में शादी समारोह होता है तो भारी दिक्कत आती है. यदि किसी के घर में देहांत हो जाए तो शव को इस रास्ते से ही श्मशान घाट तक ले जाना पड़ता है. यदि घर बनाना है तो मुख्य रोड पर बिल्डिंग मेटीरियल डलवाना पड़ता है और वहां से ढोकर लाना पड़ता है.

आरोप है कि कुछ दबंग लोग कह रहे हैं कि उनकी बस्ती की तरफ जो रास्ता जा रहा है. वह जमीन उनकी है जिसके चलते वे जानबूझकर रास्ते में पानी छोड़ देते हैं.

दलित परिवारों को आरोप है कि उनकी बस्ती में पानी नहीं आता है. दबंग परिवार उनकी बस्ती की तरफ का वाॅल्व बार-बार बंद कर देते हैं. पुलिस में शिकायत लेकर जाते हैं तो वहां भी उनकी सुनवाई नहीं होती है.

दूसरी तरफ गुर्जर समुदाय जिनके  उपर दलित परिवार दबंगई करने का आरोप लगा रहा हैं. वह इन आरोपों को बेबुनियाद बता रहे हैं. वे कहते हैं कि दलित समाज चाहता है कि उनकी जमीन से सड़क को निकाला जाए. उनका आरोप है कि सड़क की जगह में दलित समुदाय के कुछ लोगों ने मकान बना लिए हैं जिन्हें वे तोड़ना नहीं चाहते हैं और उनकी जमीन से सड़क निकालना चाहते हैं और उलटा उन्हीं पर दबंगई का आरोप लगा रहे हैं.

वहीं इस मामले पर उपायुक्त हरदीप सिंह का कहना है कि ये मामला उनके संज्ञान में नहीं था. अब इस मामले की जांच करवाई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर