राज्य

कोर्ट परिसर में चली गोली, जज के फैसले से पहले ही दे दी सज़ा

Jagbir Ghangas | News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 11:11 PM IST
कोर्ट परिसर में चली गोली, जज के फैसले से पहले ही दे दी सज़ा
Photo- News18Hindi.com
Jagbir Ghangas | News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 11:11 PM IST
हरियाणा के भिवानी कोर्ट परिसर में गुरुवार को ताबड़तोड़ फायरिंग हुई. फायरिंग होते ही वकील और कोर्ट में मौजूद लोग दहशत में आ गए. प्रत्यदर्शियों ने बताया कि मामला हत्या को लेकर शुरू हुआ था. प्रत्यक्षदर्शी एडवोकेट ने बताया कि इन गुटों में हत्या का मामला चल रहा था. एक पक्ष ने दूसरे पक्ष पर गोलियां चलाई जिसमें एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि आरोपी पक्ष जमानत पर था. कोर्ट मेें सुनवाई के लिए दोनों पक्षों को बुलाया गया था. पेशी के लिए आरोपी पूर्व सरपंच शेर सिंह भी वहां मौजूद था. दूसरे पक्ष के महीपाल, उनके भाई और उनके पिता वर्ष 2013 में बुलेरो गाड़ी में सवार होकर कहीं जा रहे थे, तभी आरोप है कि शेर सिंह और अन्य लोगों ने उनके पीछे अपनी गाड़ी लगा दी और मौके पर मारपीट शुरू कर दी थी.

इस घटना में महिपाल की मौत हो गई थी. महिपाल की मौत के बाद थाना सिवानी पुलिस ने मामला दर्ज किया था. जिसमें शेर सिंह पूर्व सरपंच सहित दस लोग नामजद थे. आज इसी मामले की सुनवाई थी. बताया जा रहा है कि आज फैसले की तारीख थी दोनों पक्षों के वकीलों की दलील जज साहब ने सुन ली थी.

केस लड़ रहे एडवोकेट के साथी वकील राजीव कौशिक ने बताया कि यह केस उनके साथी वकील के पास है, लेकिन पूरे मामले की सुनवाई लगभग पूरी हो चुकी थी. उन्होंने बताया कि आज शेर सिंह व अन्य पेशी के लिए आए थे कि गोलियां चला दी. इसमे शेर सिंह की मौत हो गई. उन्होंने बताया कि पुलिस ने मामले में तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है.

वहीं प्रत्यशदर्शी वकील वीरेन्द्र दुहन और महिला वकील मुकेश चौहान का कहना है कि कोर्ट परिसर में इस घटना के बाद दहशत का महौल है. उन्होंने बताया कि कोर्ट में पुलिस की नाक के नीचे इस तरह की घटना होना काफी निंदनीय है.

उन्होंने कहा कि वे बार एसोसिएशन के बैनर तले मीटिंग करके पुलिस को पुख्ता इतंजाम करने की मांग करेंगे. उन्होंने बताया कि पुलिस ने मामले में तीनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया. वहीं, मौके पर पहुंचे डीएसपी चंद्रपाल बिश्रोई का कहना है कि कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर