10 जिलों में जारी रहेंगे जाटों के सांकेतिक धरने

News18Hindi

Updated: March 20, 2017, 5:39 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

जाट आरक्षण समेत कई मांगों को लेकर धरना दे रहे आंदोलनकारियों और सरकार के बीच सहमति बन गई है और आंदोलनकारियों ने धरना वापस लेने का फैसला ले लिया है. जल्द ही प्रदेश भर में धरने खत्म कर दिये जाएंगे. हालांकि प्रदेश के दस जिलों में सांकेतिक धरने जारी रहेंगे.

दिल्ली में रविवार को दो केंद्रीय मंत्रियों की मौजूदगी में सीएम मनोहर लाल खट्टर के साथ ठीक वैसा ही समझौता हुआ है, जैसा कि 16 मार्च को पानीपत में मंत्रियों की कमेटी तथा जाट प्रतिनिधियों में सहमति बनी थी. दोनों पक्षों ने दिल्ली के हरियाणा भवन में दोपहर बाद संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस करके समझौते की घोषणा की.

10 जिलों में जारी रहेंगे जाटों के सांकेतिक धरने
जाट आरक्षण समेत कई मांगों को लेकर धरना दे रहे आंदोलनकारियों और सरकार के बीच सहमति बन गई है और आंदोलनकारियों ने धरना वापस लेने का फैसला ले लिया है. जल्द ही प्रदेश भर में धरने खत्म कर दिये जाएंगे. हालांकि प्रदेश के दस जिलों में सांकेतिक धरने जारी रहेंगे.

जाट संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने बताया था कि दिल्ली कूच रद्द कर दिया गया है. 26 मार्च तक धरने खत्म होंगे. हालांकि कुछ धरने सांकेतिक रूप से जारी रहेंगे.

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्श समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने फतेहाबाद में हिंसा के लिए अधिकारियों को ही जिम्मेदार ठहराया है. यशपाल मलिक का कहना है कि आज वो फतेहाबाद में जाकर घायलों से मिलेंगे और दोषी अधिकारियों के खिलाफ नामजद एफआईआर भी दर्ज करवायेंगे.

First published: March 20, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp