यहां शमशान घाट बना अनाज खरीद केंद्र, मुर्दो को जलाने के स्थान पर खड़े ट्रैक्टर

News18Hindi
Updated: April 21, 2017, 12:13 PM IST
यहां शमशान घाट बना अनाज खरीद केंद्र, मुर्दो को जलाने के स्थान पर खड़े ट्रैक्टर
Photo- News18Hindi
News18Hindi
Updated: April 21, 2017, 12:13 PM IST
सोनीपत के गोहाना हलके में गांव कथूरा खरीद केंद्र में गेहू डालने के लिए खाली जगह नहीं होने से अब मंडी के आढ़ती किसानों का गेंहू मंडी के सामने लगते शमशान घाट में उतरवा रहे हैं.

इतना ही नहीं शमशान घाट में मुर्दो को जलाने के स्थान पर किसानो के ट्रैक्टर खड़े हैं. जिसके चलते अब शमशान घाट में मुर्दो को जलाने के लिए जगह नहीं बची. इसका बड़ा कारण कथुरा खरीद केंद्र में गेंहू का समय पर उठान नहीं होना और खरीद केंद्र मे जगह का कम होना है.

कृषि फार्म में लगी आग, गेंहू की फसल जलकर राख

गांव वालों ने बताया की कथूरा गांव के किसानों ने सरकार को पांच एकड़ जमीन मंडी बनाने के लिए दी थी लेकिन एक एकड़ जमीन को पक्का कर बाकी को वैसे ही छोड़ दिया गया. मंडी के साथ एक बड़ा तालाब लगता है और अगर बारिश हो जाती है तो तालाब में जल भ्राव अधिक होने से तालाब का सारा पानी मंडी की में आ जाता है.

हरियाणा का पहला हरा-भरा गांव होगा सूजरा

इससे किसानों की फसल खराब होने का डर बना रहता है. मंडी में जगह की कमी के चलते हर बार किसानों को अपना अनाज शमशान की जमीन में डालना पड़ता है. इसके इलावा मंडी में बिजली पानी से लेकर किसानो और आढ़तियों के बैठने के लिए सरकर की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गई है. आढ़तियों को अपने तम्बू लगाकर गर्मी में काम चलाना पड़ता है.

इस बारे में जब गोहाना मार्केट कमेटी के सचिव देवेंदर ढुल से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मंडी में जमीन कम होने से मंडी के साथ लगती खाली जमीन में गेेहू को उतरवाया जा रहा है.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर