राज्य

'एलोपैथी में डॉक्टर नहीं तो बहाल किये जायें आयुर्वेद के डॉक्टर'

Tarjeev Sharma | ETV Haryana/HP
Updated: April 21, 2017, 8:26 PM IST
'एलोपैथी में डॉक्टर नहीं तो बहाल किये जायें आयुर्वेद के डॉक्टर'
हिमाचल प्रदेश - आयुर्वेद डॉक्टरों ने सरकार से की मांग, खाली अस्पतालों में हो आयुर्वेद डॉक्टरों की तैनाती
Tarjeev Sharma | ETV Haryana/HP
Updated: April 21, 2017, 8:26 PM IST
हिमाचल प्रदेश में स्कूल हेल्थ मिशन जैसे प्लान आयुर्वेद डॉकटरों के सहारे चलाया जा रहा है. इस पर मेडिकल ऑफिसर एसोसिएसन ने विरोध दर्ज किया है.

इस विरोध के बाद आयुर्वेद मेडिकल चिकित्सा संगठन ने भी चुप्पी तोड़ दी है. संगठन ने स्कूल हेल्थ मिशन में आयुर्वेद चिकित्सकों की स्कूल हेल्थ कार्यक्रम में नियुक्ति को जायज ठहराते हुए मांग कर डाली है कि जब ऐलोपैथी डॉक्टरों का अकाल है तो ऐलोपैथी अस्पतालों में आयुर्वेद के डॉक्टरों की नियुक्ति की जाए.

उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि करीब 150 ऐलोपैथी अस्पतालों को अभी भी आयुर्वेद के डॉक्टर चला रहे हैं. आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी संगठन के अध्यक्ष डॉ. दिनेश ने कहा कि चिकित्सक नहीं होने के कारण लोग मायूस हो रहे हैं. मेरा सरकार से निवेदन है कि जिन स्वास्थ्य संस्थानों में चिकित्सक नहीं हैं उनमें आयुर्वेदिक चिकित्सकों की नियुक्ति कर दी जाए.

वहीं, एलोपैथी डॉक्टरों का मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन पहले से ही आयुर्वेद के डॉक्टरों की नियुक्ति एलोपैथी अस्पताल में करने का विरोध करता रहा है. एसोसिएशन का मानना है कि आयुर्वेद और ऐलोपैथी इलाज की दो भिन्न पद्धतियां हैं. इस कारण आयुर्वेद डॉक्टरों की नियुक्ति ऐलोपैथी अस्पतालों में जायज नहीं है.

मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन ने आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी संगठन को नसीहत दी है कि ऐलोपैथी अस्पतालों में नियुक्ति के बजाए उन्हें सरकार से मांग करनी चाहिए कि उनके खुद के स्वास्थ्य संस्थान में खाली पड़े डॉक्टरों और कर्मचारियों के पदों को भरा जाए.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर