राज्य

जंगल की आग ने तोड़ा तीन वर्षों का रिकॉर्ड, करीब 650 आग के मामले अब तक हुए दर्ज

Krishna Singh | ETV Haryana/HP
Updated: June 19, 2017, 2:22 PM IST
जंगल की आग ने तोड़ा तीन वर्षों का रिकॉर्ड, करीब 650 आग के मामले अब तक हुए दर्ज
हिमाचल के जंगल में लगी आग का दृश्य
Krishna Singh | ETV Haryana/HP
Updated: June 19, 2017, 2:22 PM IST
हिमाचल प्रदेश में इस साल जंगल की आग ने बीते तीन वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. प्रदेश में जंगल की आग के मामले करीब 650 के आंकड़े को पार कर गए हैं. आग से अब तक 4365 हैक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है और वन विभाग को 53 लाख 46 हजार 591 लाख रुपए का नुकसान हो चुका है.

वनों को आग से बचाने के लिए 16 फायर वॉचर नियुक्त
शिमला शहर के डीएफओ इंद्र कुमार ने बताया कि यूं तो हर साल जंगल की आग से नुकसान होता है, लेकिन इस साल आग से सबसे ज्यादा नुकसान नई पौध को हुआ है. आग से 741.88 हेक्टेयर मे नई पौध तबाह हुई है.

हालांकि शिमला सर्कल में अभी तक 36 मामले ही सामने आए है. डीएफओ इंद्र कुमार के अनुसार शहर के जंगलों को आग से बचाने के लिए 16 फायर वॉचर, 8 वन रक्षक सहित चौकीदार तैनात किए गए हैं.

19 जून से पूर्व हुई हैं ये घटनाएं
इंद्र कुमार का कहना है कि अगर आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो वर्ष 2008-09 में आग के 572 मामले सामने आए थे,जबकि वर्ष 2011-12 में सिर्फ 168 आग के मामले देखे गए थे. उन्होंने बताया कि वर्ष 2013-14 में 397 मामले आए थे। लेकिन इस वर्ष 19 जून तक ही आग के मामलों की संख्या 649 के पार हो गई है.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर