भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर ब्रह्मोत्सव कार्यक्रम : गरुड़ देव के पूजन के बाद साक्षात गरुड़ दर्शन लाभ

Upendra Gupta | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: May 19, 2017, 10:57 AM IST
भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर ब्रह्मोत्सव कार्यक्रम : गरुड़ देव के पूजन के बाद साक्षात गरुड़ दर्शन लाभ
गरुड़ देव स्तंभ पूजा के बाद मंदिर परिसर के ऊपर उड़ते गरुड़ का दर्शन करते भक्त
Upendra Gupta | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: May 19, 2017, 10:57 AM IST
चक्रधरपुर के भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर में पांच दिन के वार्षिक ब्रह्मोत्सव के दूसरे दिन तिरुपति के पुरोहितों के द्वारा कई धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन किया गया. सबसे पहले भगवान गरुड़ देव की पूजा की गई. उसके बाद सुदर्शन होम का आयोजन किया गया.

आसमान में उड़ते गरुड़ का दर्शन


भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर में  जब गरूड़ स्तंभ की पूजा की गई तो आसमान में कई गरुड़ उड़ते नजर आए. श्रद्धालुओं में आकाश में मंडराते गरूड़ का दर्शन करने की होड़ मच गई. चक्रधरपुर भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर के अध्यक्ष केटी राव ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब गरुड़ देव अपने पूजा के दौरान ही भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर के ऊपर मंडराने लगे. अब तक ब्रह्मोत्सव के पांचवे दिन समापन के दौरान गरुड़ का आगमन मंदिर के ऊपर होता था और लोग गरुड़ देव का दर्शन करते थे.

सुदर्शन होम

सुदर्शन होम में नौ विवाहित जोड़े हुए शरीक


गरुड़ देव की पूजा के बाद  भगवान वेंकेटेश्वर का सुर्दशन होम शुरू किया गया, जिसमें नौ विवाहित जोड़ियों ने भाग लिया. रंग-बिरंगे और कई फूलों और फलों से सुसज्जित विशाल हवन कुंड को सजाया गया था.भक्त विनोद भगोरिया ने कहा कि पत्नी के साथ इस यज्ञ में बैठ रोमांचित महसूस कर रहा हूं.

 
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर