राज्य

भूमिगत आग से ऐतिहासिक आरएसपी कॉलेज का अस्तित्व खतरे में

Abhishek Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 19, 2017, 11:40 PM IST
भूमिगत आग से ऐतिहासिक आरएसपी कॉलेज का अस्तित्व खतरे में
झरिया का ऐतिहासिक आरएसपी कॉलेज
Abhishek Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 19, 2017, 11:40 PM IST
धनबाद में झरिया का ऐतिहासिक आरएसपी कॉलेज का अस्तित्व खतरे में है. जिला प्रशासन भूमिगत आग के खतरे को देखते हुए कॉलेज को बीसीसीएल के जियलगोरा अस्पताल में शिफ्ट करने की तैयारी कर रहा है . वहीं आठ हजार छात्र-छात्राओं का भविष्य दांव पर लगा है.

1951 मे बने झ्ररिया के राजा शिव प्रसाद कॉलेज और ब्रिटिश काल 1860 में स्थापित राज प्लस टू विद्यालय को दूसरे जगह शिफ्ट किये जाने का छात्र संगठन और स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं. धनबाद-चंद्रपुरा (डीसी) रेल लाइन बंद होने के बाद अब आरएसपी कॉलेज को बचाने के मुद्दे पर आंदोलन तेज हो गया है.

आरएसपी कॉलेज के लिए करीब सात एकड़ जमीन देकर झरिया के राजा काली प्रसाद सिंह ने इसकी नींव रखी थी. आज भी यहां आठ हजार छात्र छात्राएं इंटर से लेकर पीजी और बीएड की पढ़ाई करते हैं. लेकिन 2005 में राजापुर कोलियरी की भूमिगत आग के कारण बीसीसीएल ने आरएसपी कॉलेज को भूमिगत आग से खतरा बताते हुए दूसरे जगह शिफ्ट करने का आग्रह किया था. तब कॉलेज से चार सौ मीटर की दूरी पर आग बताई गई थी. अब ये आग 2011 में बढ़कर कॉलेज के चाहरदिवारी तक पहुंच गई है.

बीसीसीएल ने सिंफर के सहयोग से आग पर काबू पाने के लिए नाईट्रोजन फोमिंग का सहारा लिया और ट्रेंच भी काटे गये. लेकिन वर्तमान में कॉलेज को अभी भी आग से खतरा बताया जा रहा है. जबकि छात्र छात्राओं का कहना है कि यहां से कॉलेज शिफ्ट किए जाने के बाद उनकी पढ़ाई पर प्रतिकूल असर पड़ेगा. वहीं कॉलेज में आग के मामले पर प्राचार्य कुछ भी बताने से परहेज कर रहे हैं.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर