राज्य

गुमला: भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना महंगा पड़ रहा महिला जनप्रतिनिधि को


Updated: May 20, 2017, 2:04 PM IST
गुमला: भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना महंगा पड़ रहा महिला जनप्रतिनिधि को
पुष्पा लकड़ा प्रमुख परमबीर अल्बर्टएक्का प्रखंड जारी गुमला फोटो-ईटीवी

Updated: May 20, 2017, 2:04 PM IST
झारखंड के गुमला जिला की एक महिला जन प्रतिनिधि को विकास योजनाओं में गड़बड़ी के खिलाफ आवाज उठाना महंगा पड़ रहा है . पहले तो उस जनप्रतिनिधि को खरीदने का प्रयास किया गया. ऐसा नहीं हो पाने पर उनके साथ मारपीट भी की गई. उसके बाद भी वह पीछे नहीं हटीं तो अब उन्हे पद से हटाने की साजिश रची जा रही है.

गुमला जिला के परमबीर अल्बर्ट एक्का जारी ब्लॉक की प्रमुख पुष्पा लकड़ा इन दिनों भ्रष्टाचार का विरोध करने की सजा भुगत रही हैं. जारी ब्लॉक के सिकरी पंचायत से पंचायत समिति सदस्य के रूप में चुनकर आईं पुष्पा ने सोचा कि प्रमुख बनने के बाद वह गांव का विकास करेंगी लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाईं तो उनके साथ मारपीट हुई.

उसके बाद उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया. दरसल मार्च में उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव आया इसकी सूचना उन्हें अखबार की खबर से मिली उस पर क्या कार्रवाई हुई इसकी सूचना किसी को नहीं है. उसके बाद फिर महज दो माह बाद दोबारा अविश्वास प्रस्ताव आया है जबकि एक साल में दो बार अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सकता है. वही पुष्पा की 29 मई को शादी होनी है. इसे लेकर उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है.

दो माह के अंतर में दूसरी बार अविश्वास के प्रस्ताव को गैर कानूनी बताते हुए जिला परिषद उपाध्यक्ष के डी सिंह उनके पक्ष में खुलकर सामने आ गए हैं. उन्होंने इस तरह की असंवैधानिक कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग की है.
First published: May 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर