राज्य

476 छात्र वजीफा लेकर हुए गायब, एक्शन के मूड में बीआईटी मेसरा

Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 20, 2017, 3:34 PM IST
476 छात्र वजीफा लेकर हुए गायब, एक्शन के मूड में बीआईटी मेसरा
प्रो डा एस एस सोलंकी
Ajay Lal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 20, 2017, 3:34 PM IST
वजीफा यानी छात्रवृति से छात्रों का भविष्य संवरता है. लेकिन जब  छात्रों को सरकार ने छात्रवृत्ति दी तो छात्र दगाबाजी पर उतर आए और वजीफे की राशि लेकर फरार हो गये. मामला बीआईटी मेसरा पॉलिटेक्निक के छात्रों से जुड़ा है जहां के 476 छात्र वजीफा लेकर गायब हैं.

क्या है मामला

बीआईटी मेसरा पॉलिटेक्निक में पढ़ने वाले 476 छात्र सरकार से छात्रवृत्ति प्राप्त कर फरार हो गए. ये छात्र लगातार पत्राचार के बाद ना तो संस्थान को कोई जवाब दे रहे हैं और ना ही उनका कोई ठिकाना मिल पा रहा है. मामला 2011 - 2013, 2012 - 2014 बैच और 2013 - 2016 बैच का है. कल्याण विभाग ने यहां पढ़ रहे एससी - एसटी और ओबीसी छात्रों के प्रतिवर्ष दो लाख 86 हजार रुपए की छात्रवृत्ति दी थी. बीआईटी मेसरा पॉलिटेक्निक के डायरेक्टर प्रो डा एस एस सोलंकी मामले की जानकारी देते कहते हैं कि पुराने नियम के अनुसार छात्रवृत्ति की राशि छात्रों के खाते में डाली गयी थी. लेकिन कुछ छात्र पैसा आने के तुरंत बाद पढ़ाई छोड़ दी, तो कुछ ने कई सेमेस्टर का सर्टिफिकेट तक ले लिया. अब इस मामले में एफआईआर तक दर्च  कराने की तैयारी चल रही है. सरकारी वजीफा हड़पने के मामले में सूबे की कल्याण मत्री लुईस मरांडी ने कुछ भी कहने से परहेज किया. लेकिन माना जा रहा है कि उन्होंने ऐसे छात्रों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का मन बनाया है

छात्रों का कहना है

बीआईटी के एक छात्र ने कहा कि सरकार देश की उन्नति और कल्याण के लिए स्कॉलरशिप पर खर्च करती है. ऐसे में छात्रों को ऐसे व्यवहार से बचना चाहिए. वहीं एक अन्य छात्र ने कहा कि कई बार बीच सत्र में छात्र अपना कोर्स बदलना चाहते हैं. इस कारण भी ऐसी घटनाएं होती हैं. वे वजीफा के कारण बंधना नहीं चाहते.

इन कोर्स की होती है पढ़ाई

बीआईटी मेसरा में पॉलिटेक्निक कोर्स के तहत छह कोर्स चलाए जाते हैं. जिसमें से प्रमुख है ऑटोमोबाईल इंजीनियरिंग, मेडिकल लैब टेक्नालॉजी कोर्स, इलेक्ट्रिक एंड इलेक्ट्रानिक कोर्स, कंप्यूटर साइंस आदि कोर्स की अवधि तीन साल होती है. छात्रों में सामान्य वर्ग के लोग भी होते हैं और एसटी -एससी और ओबीसी के भी छात्र होते हैं. एससी - एसटी और ओबीसी के छात्रो को कल्याण विभाग से छात्रवत्ति मिलती है. हर बैच में छात्रों का संख्या 210 होती है.
First published: April 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर