बस पड़ाव की मरम्मत पर खर्च हो गए 50 लाख, लेकिन यात्रियों को हो रही परेशानी

Shailendra | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 11:49 AM IST
बस पड़ाव की मरम्मत पर खर्च हो गए 50 लाख, लेकिन यात्रियों को हो रही परेशानी
फोटो-ईटीवी
Shailendra | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 11:49 AM IST
झारखंड के खूंटी में बस पड़ाव के नाम पर सरकारी राशि की लूट मची हुई है. एक बस स्टैंड होने के बाबजूद नगर विकास विभाग दूसरे के निर्माण की कोशिश कर रहा है, जबकि पहले से बने स्टैंड में पिछले दो वर्षों में करीब 50 लाख रुपये खर्च किए गए हैं.

लाखों रुपये खर्च होने के बाद भी हालत ऐसी है कि बसें सड़कों पर खड़ी हो रही हैं और यात्री तपती धूप में इंतजार करने को मजबूर हैं. खूंटी में सिविल कोर्ट के ठीक सामने और नगर विकास विभाग के कार्यालय से चंद मीटर की दूरी पर मौजूद बस पड़ाव वीरान नजर आता है.

 बसों के लिए नहीं शराब पीने वालों का अड्डा

पहले निर्माण के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए और बाद में मरम्मत के नाम पर भी लाखों रुपए खर्च हुए. इसके बाद भी यह बस पड़ाव बसों के लिए नहीं शराब पीने वालों का अड्डा बन गया है.

नए बस पड़ाव के लिए जमीन की चिहिन्त
विभाग ने फिर से नए बस पड़ाव के लिए जमीन चिन्हित कर ली है. अब वहां बस पड़ाव के निर्माण के लिए करोड़ों रुपये के आवंटन की उम्मीद की जा रही है.

बस पड़ाव नगर विकास विभाग के आय के प्रमुख साधनों में से एक है लेकिन खूंटी में अधिकारियों की लापरवाही के कारण न केवल सरकार को बसों से मिलने वाले टैक्स का चूना लग रहा है बल्कि पुराने और नए बस पड़ाव के नाम पर भी सरकारी राशि की खुलेआम लूट हो रही है.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर