राज्य

दो साल बाद आरयू में सीनेट की बैठक, हंगामा, प्रदर्शन

Naushad Alam | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 20, 2017, 3:09 PM IST
दो साल बाद आरयू में सीनेट की बैठक, हंगामा, प्रदर्शन
फोटो ईटीवी
Naushad Alam | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 20, 2017, 3:09 PM IST
रांची विश्वविद्यालय में मंगलवार को सीनेट की बैठक का आयोजन किया गया. कुलपति डॉ आर के पांडेय की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक के आरम्भ होते ही भारी हंगामा हुआ, वहीं विश्वविद्यालय के बाहर छात्र संघ द्वारा प्रदर्शन किया गया.

रांची विश्वविद्यालय के मौलाना आज़ाद सीनेट हॉल में लगभग दो वर्षों बाद सीनेट की बैठक का आयोजन किया गया. बैठक में बजट समेत विश्वविद्यालय के विभिन्न समस्याओं पर चर्चा हो रही है. कुलपति  डॉ आर के पांडेय ने बताया कि एकेडमिक काउंसिल और सिनेट की ओर से जितने भी निर्णय लिए गए, सबकी चर्चा आज बैठक में की गई. साथ ही बजट के बारे में भी जानकारी दी गई.

कुलपति डॉ आर के पांडेय के अभिभाषण के साथ सीनेट की बैठक जैसे ही आरम्भ हुई वैसे ही सीनेट के निर्वाचित सदस्य समेत अन्य सदस्यों ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर अनियमितता का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे. वहीं विश्वविद्यालय के बाहर आजसू छात्र संघ द्वारा अपनी मांगों को लेकर प्रर्दशन किया गया. सीनेट सदस्य डॉ मिथलेश सिंह कहा कि जितने भी निर्णय होते हैं, उसके लिए हरी झंडी सीनेट से ही मिलती है.छात्र नेता हरीश कुमार कहते हैं कि हमारी कुछ मांगे हैं. आरयू को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा मिले, पदमश्री रामदयाल मुंडा के नाम पर यूनिवर्सिटी का नाम हो.कैंपस में वाई फाई की सुविधा हो. ई लाइब्रेरी हो.

ग़ौरतलब है की रांची विश्वविद्यालय के सीनेट में कुल 96 सदस्य हैं. प्रत्येक सदस्य से बैठक में चर्चा के लिए दो - दो सवाल मांगे गए थे. लेकिन इस महत्वपूर्ण बैठक में 76 प्रतिशत से अधिक सदस्यों ने प्रश्न नहीं पूछे हैं. इससे सीनेट सदस्यों का उदासीन रवैय्या ज़ाहिर हो रहा है.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर