राज्य

वकील के लिए कुख्यात नक्सली कुंदन ने लगाई गुहार, वकीलों का फिर इंकार

Bhuvan Kishor Jha | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 19, 2017, 3:56 PM IST
वकील के लिए कुख्यात नक्सली कुंदन ने लगाई गुहार, वकीलों का फिर इंकार
फोटो ईटीवी
Bhuvan Kishor Jha | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 19, 2017, 3:56 PM IST
सरेंडर के बाद विवादों में आए नक्सली सरगना कुंदन पाहन की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही है. हत्या, लूट एवं आतंक फैलाने के आरोप में फंसे इस नक्सली सरगना को ट्राइल फेस करने के लिए कोई वकील नहीं मिल रहा है.

वकील मुहैया कराने की अपील

कभी हत्या, लूट और आतंक के कारण पुलिस के लिए चुनौती बना कुंदन पाहन इन दिनों बेहद ही मुश्किल में है. पुलिस के समक्ष मई में सरेंडर करने के बाद कुंदन पाहन इन दिनों सिविल कोर्ट में ट्राइल फेस कर रहा है. मगर उसकी पैरवी करने के लिए कोई वकील नहीं मिल रहा है. थक हार कर न्यायाधीश शंभू लाल साह की अदालत में कुंदन पाहन ने सरकार की ओर से वकील मुहैया कराने की अपील की है. ऐसे में कुंदन पाहन की अपील पर अदालत ने पैनल लायर्स के माध्यम से केसों की सुनवाई कराने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार को पत्र भेजकर अनुसंशा की है.वहीं जिला बार एसोसिएसन  ने एक बार फिर अधिवक्ताओं को कुंदन पाहन की पैरवी नहीं करने की अपील कर उसकी मुश्किलें बढा दी है.

सरेंडर के अंदाज पर सवाल

कुंदन पाहन पर राज्य के विभिन्न जिलों में करीब सौ से अधिक केस दर्ज है जिसमें हत्या,लूट और आतंकी गतिविधि में शामिल होने के कई संगीन आरोप हैं. सिविल कोर्ट के लोक अभियोजक गोरखनाथ दूबे ने बताया कि पूर्व मंत्री रमेश मुंडा हत्या मामले में आगामी पांच जुलाई को आरोप पत्र दाखिल करने की तैयारी की जा रही है. ऐसे में वकील नहीं होने से कुंदन परेशानी में फंस सकता है. दरअसल पिछले महीने कुंदन पाहन की जिस तरह से पुलिस के सामने सरेंडर कराया गया था, उसके बाद से ही इस सरेंडर पर सवाल उठने लगे थे. इसके विरोध में जिला बार एसोसिएशन ने भी फरमान जारी कर किसी भी अधिवक्ता को कुंदन पाहन के केस को नहीं लड़ने की हिदायत दी है.

 

 

 

 

 
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर