जल संकट दूर करने की कवायद सुस्त, लोगों को झेलनी पड़ रही परेशानी

Narendra Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 12:36 PM IST
जल संकट दूर करने की कवायद सुस्त, लोगों को झेलनी पड़ रही परेशानी
प्रतीकात्मक फोटो
Narendra Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: April 21, 2017, 12:36 PM IST
झारखण्ड की राजधानी रांची में पानी की किल्लत को दूर करने के लिए 10 तालाबों के सौंदर्यीकरण और गहरीकरण का कार्य शुरू किया गया है. काम की गति सुस्त होने की वजह से लोगों को पानी के लिए दर-दर भटकने को मज़बूर होना पड़ रहा है.

रांची नगर निगम से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इसके पीछे उद्देश्य यह है कि बारिश की बूंदों का पूरी तरह संचयन किया जा सके.

राज्य सरकार ने जल संचयन के उद्देश्य से रांची के तालाबों से पानी निकलवा कर उसके गहरीकरण के काम जेसीबी से शुरू करवाया था. लेकिन आज तक तालाब के खुदाई का भी काम पूरा नहीं हो पाया है. इस बारे में नगर विकास और परिवहन मंत्री सीपी सिंह का कहना है कि ठेकेदार और अभियंताओं की मिलीभगत से वो खुद ही परेशान हैं. उनका कहना है कि उन्होंने काम में हो रही देरी के चलते ठेकेदार और अभियंताओं को फटकार भी लगाई है.

तालाब के गहरीकरण के लिए पानी निकाल लिए जाने के बाद स्थानीय लोग बेहद परेशान हैं. उन्हें पानी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है. इस बारे में स्थानीय निवासियों का कहना है कि उन्हें लगा था कि सरकार के इस कदम से पानी का संकट एक-दो महीने में दूर हो जायेगा, लेकिन काम इतनी धीमी गति से हो  रहा है कि अभी हमें पानी के लिए महीनों इंतजार करना पड़ेगा.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर