मध्य प्रदेश की जेलों में व्यवस्था खस्ता, चर्म रोग से ग्रसित हो रहे कैदी

Manoj Rathore | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: May 19, 2017, 8:26 PM IST
मध्य प्रदेश की जेलों में व्यवस्था खस्ता, चर्म रोग से ग्रसित हो रहे कैदी
भोपाल जेल के जेलर.
Manoj Rathore | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: May 19, 2017, 8:26 PM IST
मध्य प्रदेश की जेलों में खुजली की बीमारी तेजी से फैल रही है. गर्मी के चलते चर्म रोगियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. हेल्थ कैंप लगाकर कैदियों का इलाज किया जा रहा है.

भोपाल सेंट्रल जेल के अलावा प्रदेश की दूसरी जेलों में कैदियों को चर्म रोग की शिकायत मिल रही है.

यहां पर एक बैरक में बीस से पच्चीस कैदियों को रखा जाता है. साथ ही रोजाना करीब पच्चीस कैदी नए आते हैं और इतने ही कैदी जेल से जमानत पर रिहा होते हैं. कैदियों के कंबल भी समय-समय पर धोए जाते हैं. ऐसे में एक-दूसरे के कंबल के इस्तेमाल करने और गर्मी के चलते ही त्वचा रोग के केस सामने आ रहे हैं.

भोपाल सेंट्रल जेल के अधीक्षक दिनेश नरवारे ने बताया कि यहां तीन हजार से अधिक कैदी हैं. इसी तरह प्रदेश की 123 जेलों में 38458 कैदी हैं, जबकि इन जेलों की क्षमता केवल 27507 है. इनमें से 3000 कैदी चर्म रोग से ग्रसित हैं.

एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार जेल में कैदियों को क्षमता से अधिक रखने के मामले में मध्य प्रदेश की जेलें देश के पांच अव्वल प्रदेशों में शामिल हैं. आंकड़ों में प्रदेश की जेलों में ऑक्यूपेंसी रेट 139.8 फीसदी बताई गई है. प्रदेश में सेंट्रल जेल की संख्या 11, जिला जेलों की संख्या 39, उप जेलों की संख्या 72, ओपन जेल 1 समेत कुल 123 हैं.

दिनेश नरवारे ने बताया कि जेलों में चर्म रोगियों के इलाज के लिए हैल्थ कैंप लगाए जा रहे हैं. जेल के डॉक्टरों के अलावा जरूरत पड़ने पर सरकारी अस्पतालों में भी चर्म रोग से पीड़ित कैदियों का इलाज कराया जा रहा है.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर