राज्य

दिल्ली पहुंचा सिमी कैदियों की प्रताड़ना का मामला, एनएचआरसी टीम ने शुरू की जांच

Manoj Kumar Rathor | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 20, 2017, 5:33 PM IST
दिल्ली पहुंचा सिमी कैदियों की प्रताड़ना का मामला, एनएचआरसी टीम ने शुरू की जांच
जेल का दौरा करने वाली टीम की सदस्य.
Manoj Kumar Rathor | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 20, 2017, 5:33 PM IST
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित सेंट्रल जेल में बंद स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट आॅफ इंडिया (सिमी) कैदियों से प्रताड़ना का मामला दिल्ली तक पहुंच गया है. सिमी कैदियों के पक्ष की तरफ से की गई शिकायत के बाद दिल्ली से आई नेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन (एनएचआरसी) की तीन सदस्यीय टीम भोपाल सेंट्रल जेल में जांच पड़ताल शुरू कर दी है.

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार जेल ब्रेक की घटना के बाद अब सेंट्रल जेल में 31 सिमी कैदी बंद हैं. इनमें से सिमी कैदी अबु फैजल समेत 21 सिमी कैदियों के परिजनों ने सामाजिक संगठनों की मदद से एनएचआरसी को शिकायत की थी. आरोप था कि जेल के अंदर सिमी कैदियों को मानसिक और शारीरिक रूप से यातना दी जा रही है. इससे पहले जिला कोर्ट और राज्य मानव अधिकार आयोग में भी शिकायत की जा चुकी है. जेल प्रबंधन कोर्ट और आयोग में अपना जवाब पेश कर चुका है. सिमी कैदियों की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए मानव अधिकार आयोग की तीन सदस्यीय टीम, जिसमें एसएसपी पुपुल दत्ता, लाल बहादुर सिंह और अरुण कुमार तिवारी शामिल हैं ने सेंट्रल जेल में जांच शुरू कर दी है.

एनएचआरसी की टीम के सदस्यों ने सिमी कैदियों के साथ उनके परिजनों के बयान दर्ज किए. साथ ही जेल के अधिकारियों के भी बयान दर्ज किए. इसके अलावा जेल की व्यवस्थाओं का जायजा भी लिया. सिमी कैदियों के साथ पहुंचे सामाजिक संगठनों का आरोप है कि एनएचआरसी में शिकायत के बाद परिजनों को धमकी मिल रही है. संगठनों की मांग है कि कैदियों और परिजनों की बातचीत को गोपनीय रखते हुए सभी कैदियों का मेडिकल परीक्षण कराया जाए. वकीलों की मुलाकात भी उनके पक्षकार कैदियों से कराई जाए. जेल सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन करे.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर