छिंदवाड़ाः राशन के बदले मिली मौत, अब तक 13 शवों की शिनाख्त


Updated: April 21, 2017, 10:37 PM IST
छिंदवाड़ाः राशन के बदले मिली मौत, अब तक 13 शवों की शिनाख्त
छिंदवाड़ा जिले में सरकारी समिति केंद्र में आग

Updated: April 21, 2017, 10:37 PM IST
मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की एक सहकारी समिति में शुक्रवार को सामग्री वितरण के दौरान केरोसिन में आग लग गई. इस हादसे में अब तक 13 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है.

मृतकों में तीन महिलाएं भी शामिल हैं, जबकि तीन घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है.

जबलपुर के संभागायुक्त गुलशन बामरा ने बताया, "हर्रई तहसील के बारगी में शुक्रवार दोपहर से केरोसिन व खाद्यान्न का वितरण हो रहा था. लोग कतारों में लगे हुए थे, इसी दौरान अचानक आग लग गई."

छिंदवाड़ा में केरोसिन वितरण के दौरान हादसा, 20 लोग जिंदा जले

बामरा ने कहा, "हादसे में 13 लोगों की घटनास्थल पर ही जलकर मौत हो गई. तीन जख्मी हो गए हैं, जिन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है."

ईटीवी के स्थानीय संवाददाता राजेश करमेले ने अब तक 18 शवों के निकाले जाने की पुष्टि की है.

-सोसायटी भवन में आग लगने का मामला
-कलेक्टर जेके जैन ने की 13 लोगों की मौत की पुष्टि
-3 गंभीर घायल, नरसिंहपुर रेफर

मरने वालों के नाम
-संजय, रामसेवक, कोमल डहरिया, कम्मोबाई लच्छनिया बाई, राकेश, कृपाल, कुसुम बाई
संतकुमार, सियाबाई, गणेश, प्रेमवति, संदीप की हुई मौत
हादसे में घायलों के नाम
-रज्जाक मंसूरी, मंजू मालवीय, मनोज मालवीय, शिवानी

मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

-इस हादसे की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए सहायता राशि का ऐलान किया है।

बताया गया है कि

-बारगी गांव की सहकारी समिति में भवन के भीतर खाद्यान्न और बाहर केरोसिन का वितरण हो रहा था, तभी अचानक आग लंग गई.
-उस मौके पर सहकारी समिति भवन में बड़ी संख्या में मौजूद थे.
इस आग ने कई लोगों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया और हर तरफ भगदड़ मच गई.
-सहकारी समिति के आसपास सिर्फ 'बचाओ-बचाओ' की आवाजें सुनाई देने लगीं।
-राज्य के कृषिमंत्री गौरीशंकर बिसेन छिंदवाड़ा के लिए रवाना हो गए हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है, "बारगी में हुई दुर्घटना पीड़ादायी है, मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख और गंभीर घायलों को 50-50 हजार रुपये सहायता राशि प्रदान की जाएगी."
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर