राज्य

बोन मेरो ट्रांसप्लांट के लिए एमवाय अस्पताल को करना होगा अभी और इंतजार

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 8:30 PM IST
बोन मेरो ट्रांसप्लांट के लिए एमवाय अस्पताल को करना होगा अभी और इंतजार
महाराजा यशवंत राव चिकित्सालय
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: June 19, 2017, 8:30 PM IST
मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में स्थित प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल महाराजा यशवंत राव चिकित्सालय (एमवाय)  के लिए एक बुरी खबर है. जुलाई के महीने से बोन मेरो ट्रांसप्लांट शुरू होने की बाट जोह रहे एमवाय अस्पताल को अभी इसके लिए और इंतजार करना होगा. इसके लिए अस्पताल में अलग यूनिट तैयार करने के ​साथ ही डॉक्टरों को ट्रेनिंग के लिए अमेरिका भी भेजा जाना है. बता दें कि यूनिट शुरू होने के बाद BPL और दीनदयाल योजना के कार्डधारी मरीजों के लिए यह सुविधा पूरी तरह से निःशुल्क होगी. निजी अस्पतालों में इसके लिए 15 से 20 लाख रुपए का खर्च आता है.

एमवाय अस्पताल के अधीक्षक वीएस पाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार एमवाय अस्पताल में बोन मेरो ट्रांसप्लांट यूनिट जुलाई से शुरू होना थी. इसके लिए सिविल वर्क पूरा हो चुका है. लेकिन गैस पाइप लाइन डालने सहित इलेक्ट्रिसिटी और कई तकनीकी काम अभी भी बचे हुए हैं. इस लेट-लतीफी के लिए मेंटेनेंस को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है.

यूनिट स्थापित करने की कवायद जनवरी से शुरू हो गई थी. कई बार विशेषज्ञों के दल ने पूरे एमवाय अस्पताल का दौरा भी किया. अस्पताल की चौथी मंजिल स्थित प्रायवेट वॉर्ड को बोनमैरो ट्रांसप्लांट यूनिट बनाने का काम जनवरी से शुरू भी हो गया. लेकिन बीते छह महीनो में भी काम पूरा नहीं हो सका है. वहीं इसकी स्पेशल ट्रेनिंग के लिए चिकित्सकों को अमेरिका में जाकर करीब 6 माह की ट्रेनिंग भी लेनी है. इसके लिए भी मंजूरी का काम शासन स्तर पर चल रहा है.
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर