राज्य

सेल्फी से टेस्टी हुआ खाना, बच्चे बोले- वॉट एन आइडिया सरजी..!

Ashutosh Purohit | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 21, 2017, 3:50 PM IST
सेल्फी से टेस्टी हुआ खाना, बच्चे बोले- वॉट एन आइडिया सरजी..!
दुनिया में अाज कल सेल्फी की सब लोगों पर भूत सवार हैं. सभी एक अच्छी सेल्फी के लिए तमाम कोशिशें करते हैं. एक अदद परफेक्ट क्लिक के शौक के लिए कई बार सेल्फी प्रेमी अपनी जान भी जोखिम में डाल देते हैं. लेकिन अब इसी 'सेल्फी' से बच्चों के खाने की गुणवत्ता भी परखी जा रही है.
Ashutosh Purohit | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: March 21, 2017, 3:50 PM IST
दुनिया में अाज कल सेल्फी की सब लोगों पर भूत सवार हैं. सभी एक अच्छी सेल्फी के लिए तमाम कोशिशें करते हैं. एक अदद परफेक्ट क्लिक के शौक के लिए कई बार सेल्फी प्रेमी अपनी जान भी जोखिम में डाल देते हैं. लेकिन अब इसी 'सेल्फी' से बच्चों के खाने की गुणवत्ता भी परखी जा रही है.

यह अनूठा प्रयोग मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में शुरू हुआ है. यहां आदिवासी विभाग के तहत आने वाले छात्रावास और खेल परिसर में बच्चों को दिए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता को लेकर 'सेल्फी' पहल शुरू की गई है.  इसके न केवल खाने की क्वालिटी सुधरी है, बल्कि इस प्रयोग से से छात्र भी खुश हैं.

दरअसल, जिले में संचालित छात्रावासों व खेल परिसर में बच्चों के ब्रेक फास्ट, लंच और डिनर पर सेल्फी के जरिए नजर रखी जा रही है. इस नए प्रयोग के तहत अब छात्रावास में बच्चों के भोजन करने के दौरान अधीक्षक सेल्फी लेकर वरिष्ठ अफसरों को भेज रहे हैं.

संबंधित छात्रावास अधीक्षक की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए सेल्फी लेने की जिम्मेदारी भी अधीक्षकों को ही दी गई हैं..

सेल्फी लेने की पहल का छात्रावासों में परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्ता में सुधार होता दिख रहा है. एक ऐसे ही छात्र बबलू मेहता ने न्यूज18 से बातचीत में माना कि सेल्फी लेने की पहल शुरू होने के बाद से उन्हें दिए जाने वाले खाने की गुणवत्ता अच्छी हुई है.

सीनियर बालक छात्रावास, खरगोन के अधीक्षक शीतल कुमार मालवीय ने भी सरकार की इस पहल का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि सरकार को यह पहल पूरे प्रदेश में लागू करना चाहिए.
First published: March 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर