राशिफल: धन, ऐश्वर्य, सुख दायिनी हैं मां कमला!

News18India

Updated: July 13, 2011, 1:50 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। विद्या प्राप्ति हेतु मां तारा की साधना करनी चाहिए। दस विद्याओं में दूसरा स्वरुप महा देवी मां तारा का स्वरुप हैं। शुक्रवार, गुरूवार को इनकी विशेष साधना होती है। इनकी साधना साधक को ईशान कोने की ओर मुख करके करनी चाहिए। ईशान कोन उत्तर पूर्व दिशा के बीच के कोन को कहते हैं। इनका महा मंत्र-क्रीं ह्रीं तारा ह्रीं क्रीं स्वाहा है। इस मंत्र का कम से कम 11०० बार जाप करना चाहिए तथा विशेष सिद्धि के लिए विशेष जाप की आवशकता होती है। सामान्य भक्तजन न्यूनतम सुबह शाम इस महा मंत्र का जाप 108-108 बार करें तो उनके पुत्र के कष्टों का नाश होता है अथवा अगर पुत्रहीन स्त्रियां यह जाप करें तो उन्हे पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है। इस मन्त्र के जाप से दुश्मनों पर विजय की प्राप्ति भी होती है।

शत्रु बाधा, कोर्ट-कचेहरी, न्यायिक विवाद निवारण हेतु मां बंगलामुखी साधना महा देवी मां बंगलामुखी दस महाविद्या में आठवा स्वरुप हैं। इनकी विशेष साधना का दिन गुरूवार है। इनकी साधना साधक को पश्चिम और उत्तर दिशा की ओर मुख करके करनी चाहिए। इनका महा मंत्र -क्रीं ह्रीं बंगलामुखी ह्रीं क्रीं स्वाहा:है। इस मंत्र का कम से कम 11०० बार जाप करना चाहिए तथा विशेष सिद्धि के लिए विशेष जाप की आवशकता होती है। सामान्य भक्तजन न्यूनतम सुबह शाम इस महा मंत्र का जाप 108-108 बार करें। माँ बंगलामुखी का जाप ऐसे व्यक्ति को करना चाहिए जिनके ऊपर किसी तांत्रिक क्रिया को कराया जा रहा हो और जिससे वो परेशान हो। इस मंत्र का जाप करने से समस्त दुष्ट व्यक्तियों का नाश होता है। इनका जाप करते समय साधक को पीला वस्त्र धारण करना चाहिए और पीले माला से जाप करना चाहिए। उस माला को जाप ख़त्म होने के बाद किसी पीपल के पेड़ पर टांग देना चाहिए।

धन, ऐश्वर्य,विलास, सुख दायिनी महा देवी मां कमला हैं। महा विद्या में दसवा और अंतिम स्वरुप है महा देवी मां कमला का। शुक्रवार के दिन इनकी विशेष साधना होती है। इनकी साधना साधक को आकाश की ओर मुख करके करनी चाहिए। इनका महा मंत्र-क्रीं ह्रीं कमला ह्रीं क्रीं स्वाहा: है। इस मंत्र का कम से कम 11०० बार जाप करना चाहिए तथा विशेष सिद्धि के लिए विशेष जाप की आवशकता होती है। सामान्य भक्तजन न्यूनतम सुबह शाम इस महा मंत्र का जाप 108-108 बार करें। मां कमला का जाप दसो महाविद्या में सबसे श्रेष्ठ बताया गया है। इनका जाप करने वाले जीवन में कभी भी दरिद्र नही होते। शास्त्रों में कहा गया है की जो मां कमला की साधना करते हैं उन्हे सभी प्रकार के भौतिक सुख प्राप्त होते हैं।

मेष-कारोबार में वृद्धि के लिए परिजनों का साथ विशेष लाभकारी होगा।

क्या करें-मस्तक पर तिलक धारण करें।

क्या न करें-व्यर्थ की बातों में खुद को ना लगाये।

वृषभ-प्रयास रहने पर आज लाभ के अवसर पहले से और सुढृढ़ होंगे।

क्या करें-सफलता हेतु गणेश अराधना करें।

क्या न करें-उत्साह में कमी ना आने दें।

मिथुन-स्वास्थ्य का ध्यान दें, नेत्र रोग के प्रति सावधानी बरतें।

क्या करें-रोग निवारण हेतु ज़रूरतमंद को मीठा वा नमकीन भोजन करायें।

क्या न करें-किसी की निंदा ना करें।

कर्क-व्यापारिक मित्रो, साझेदारो की सहायता से आज का दिन अत्यन्त उत्साहवर्धक होगा।

क्या करें-गाय की सेवा करें।

क्या न करें-पार्टनर से झगड़ा या विवाद न बढ़ाये।

सिंह-अपने सामाजिक मान-नर्यादा का ख्याल रखकर ही कार्य करें।

क्या करें-हनुमान जी को शुद्ध घी का दीपक अर्पित करें।

क्या न करें-बड़े वादे ना करें।

कन्या-स्वास्थय उत्तम होगा परन्तु पारिवारिक क्लेश की सम्भावना है।

क्या करें-हरे रंग का रुमाल साथ रखें।

क्या न करें-वाणी पर नियंत्रण न खोएं।

तुला-आज का दिन लाभदायक परिस्थितियों से परिपूर्ण होगा।

क्या करें-हनुमान जी को लाल पुष्प की माला अर्पित करें।

क्या न करें-झूठ ना बोलें।

वृश्चिक-कुटुंब में विवाद की सम्भावना है।

क्या करें-शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्ति को दान दें।

क्या न करें-क्रोध न करें।

धनु-सुदूर यात्रा से मजबूत आर्थिक लाभ होगा।

क्या करें-पीपल में जल दें और कौए को मीठी रोटी दें।

क्या न करें-निर्णय लेने में जल्दबाजी ना करें।

मकर-नौकरी, कार्य-व्यवसाय का वातावरण सुखद रहेगा।

क्या करें-लाल पुष्प का पौधा लगाएं।

क्या न करें-निराश ना हों।

कुम्भ-स्वयं का ध्यान वाद विवाद से बचाकर कार्य में लगाये। लाभ होगा।

क्या करें-गरीब को भोजन करायें।

क्या न करें-तनाव ना लें।

मीन-काफी समय से बीमार लोगों को स्वास्थय लाभ होगा।

क्या करें-ताम्बे के पात्र में जल लेकर रोली मिला ले व सूर्य देव को अर्घ्य दें।

क्या न करें-किसी को पैसे उधार ना दें।

First published: July 13, 2011
facebook Twitter google skype whatsapp