कटिहार में किताबें नहीं मिलने से छात्र हो रहे हैं परेशान

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: July 17, 2017, 10:57 PM IST
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: July 17, 2017, 10:57 PM IST
बिहार के शिक्षा मंत्री भले ही महागठबंधन को फिट रखने की फार्मूला ढूढ़ने में कामयाब हो जाए मगर बिहार के शिक्षा-व्यवस्था को मजबूत उड़ान देने में उनका संकल्प लड़खड़ा रहा है. किताबों की कमी के बीच कटिहार के छात्र-छात्राओं ने जिलाधिकारी (डीएम) से किताब दिलाने के लिए गुहार लगाई है. जिलाधिकारी ने छात्र-छात्राओं को एडजस्टमेंट का गुरु मंत्र देते हुए कहा कि तत्काल सीनियर छात्रों से पुरानी किताबें लेकर पढाई करें ,जल्द ही नई किताब दिलाने की भी व्यवस्था कर दी जाएगी.

दरअसल, पूरे बिहार में अब तक 3 महीने बीत जाने के बाद भी नई किताब छात्र छात्राओं को उपलब्ध नहीं हो पाया है, ऐसे में कटिहार के डंडखोरा प्रखंड के छात्र-छात्राए किताबों की मांग को लेकर जिला अधिकारी के पास पहुंचे थे, बच्चों का कहना है कि किताब नहीं मिलने से पठन-पाठन पूरी तरह प्रभावित हो रहा है. यह पहली बार नहीं बल्कि बीते वर्ष भी किताबों के लिए छात्र-छात्राओं को संघर्ष करना पड़ा था, इसीलिए अब पुराने किताब मिलने में भी दिक्कतें हो रही हैं. हालांकि डीएम अंकल के द्वारा सुझाए गए रास्ते पर अमल करते हुए एक दूसरे से किताब लेकर कुछ हद तक हो रही मुश्किल को आसान करने की कोशिश जरूर करेंगे.

बहरहाल, कटिहार जिला अधिकारी द्वारा दिए गए एडजस्टमेंट मंत्र महत्वपूर्ण है, लेकिन सवाल यह उठता है कि बिहार सरकार छात्रों के मूलभूत सुविधाओं के प्रति सजग क्यों नहीं है. उम्मीद की जानी चाहिए कि आने वाले दिनों में छात्रों को किताबों के किल्ल्त को लेकर इस तरह से गुहार लगाना ना पड़े.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर