'जब नीतीश ने तेजस्‍वी का इस्‍तीफा मांगा ही नहीं तो इतना हल्‍ला क्‍यों'

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: July 24, 2017, 12:33 PM IST
'जब नीतीश ने तेजस्‍वी का इस्‍तीफा मांगा ही नहीं तो इतना हल्‍ला क्‍यों'
फाइल फोटो: नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: July 24, 2017, 12:33 PM IST
बिहार के महागठबंधन में बढ़ती दरार के बीच जनता दल यूनाइटेड के महासचिव केसी त्‍यागी ने कहा है कि नीतीश कुमार ने कभी किसी भी स्‍टेज पर डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव से इस्‍तीफा नहीं मांगा है. किसी भी मीटिंग में यादव को इस्‍तीफा देने के लिए नहीं कहा. न ही कोई सीमा रेखा तय की है. लेकिन तेजस्‍वी पर आरोप लगे हैं, जांच एजेंसियां काम कर रही हैं तो उन्‍हें सफाई देनी चाहिए.

न्‍यूज18 डॉटकॉम से बातचीत में त्‍यागी ने कहा कि आरजेडी के लोगों ने बिना मतलब बवंडर मचा दिया है कि हम इस्‍तीफा मांग रहे हैं. तेजस्‍वी के पिता कह रहे हैं कि हम इस्‍तीफा मांग रहे हैं. लेकिन उन्‍हें बताना चाहिए कि इस्‍तीफा मांगा किसने. नीतीश कुमार ने तो नहीं मांगा.

हां, नीतीश कुमार आरोपों के आधार पर तीन बार अपने मंत्रियों का इस्‍तीफा ले चुके हैं. जो सार्वजनिक जीवन में है उस पर यदि आरोप लगते हैं तो उन्‍हें जवाब देना चाहिए. क्‍योंकि वह जनता के प्रति जवाबदेह हैं. वह जनता को बताएं कि उन्‍होंने कोई गलत काम नहीं किया. एक समय लालकृष्‍ण आडवाणी और शरद यादव को भी इस्‍तीफा देना पड़ा था.

bihar politics, tejashwi Yadav, lalu prasad yadav जनता दल यूनाइटेड के महासचिव केसी त्यागी

पार्टी तो भ्रष्‍टाचार के मसले पर कहेगी. लेकिन फाइनल अथॉरिटी नीतीश कुमार हैं, क्‍योंकि वह सीएम हैं. उनके कहे बिना क्‍यों राष्‍ट्रीय जनता दल के नेता शोर मचा रहे हैं. महागठबंधन का अंतिम फैसला लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार के हाथ में है. सीएम ने तेजस्‍वी को यह मौका दिया है कि वह भ्रष्‍टाचार के मामले में अपनी सफाई रखें.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर