साल 2017 में 7.2% और 2018 में 7.7% विकास दर रहने की संभावना: जेटली

आईएएनएस
Updated: April 1, 2017, 11:42 PM IST
साल 2017 में 7.2% और 2018 में 7.7% विकास दर रहने की संभावना: जेटली
Image Source: PTI
आईएएनएस
Updated: April 1, 2017, 11:42 PM IST
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) की दूसरी सालाना बैठक के बाद कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के लिए चुनौतीपूर्ण हैं लेकिन भारत की स्थिति बेहतर रहने वाली है. जेटली ने कहा कि अनुमान है कि भारत की अर्थव्यवस्था साल 2017 में 7.2 फीसदी जबकि 2018 में यह वृद्धि दर 7.7 फीसदी रहने की संभावना है.

'आर्थिक सुधार के कदमों से हैं उम्मीदें'
जेटली ने मीटिंग के बाद कहा कि आर्थिक सुधार के लिए मोदी सरकार ने कई ज़रूरी कदम उठाए हैं इसी के चलते आने वाले दो सालों में भारतीय अर्थव्यवस्था का तेजी से विकास होने की संभावनाएं जताई जा रहीं हैं. उन्होंने कहा कि देश को अगले पांच सालों में बुनियादी ढांचे के लिए 43 लाख करोड़ रुपये या 646 अरब डॉलर की जरूरत होगी और उम्मीद है कि 2015 से शुरू होने वाली संस्था एनडीबी का इसमें अहम योगदान होगा.

एनडीबी भी देगा सहयोग

जेटली ने कहा कि एनडीबी फंडिंग के लिए हमने लगभग दो अरब डॉलर की परियोजनाओं का प्रस्ताव दिया है और उम्मीद है कि बोर्ड इसे जल्द ही मंजूर कर लेगा. बुनियादी ढांचे की हमारी 70 फीसदी जरूरतें बिजली, सड़क और शहरी इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में है.

एनडीबी जैसे संस्थान के लिए यह बेतहाशा अवसर पैदा करता है, जिसका मूल उद्देश्य बुनियादी ढांचों का सतत विकास है. जेटली ने कहा, मुझे उम्मीद है कि एनडीबी विकास बैंक के रूप में उभरकर सामने आएगा और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के वित्तपोषण में मदद करेगा.

वित्त मंत्री ने आगे कहा, 'एनडीबी के अध्यक्ष के.वी.कामत ने सराहनीय काम किया है. बैंक ने अब पूरी तरह से कामकाज करना शुरू कर दिया है. इसने बाजार से सफलतापूर्वक पैसा जुटाया है और यह जल्द ही भारत में आवंटन शुरू कर देगा. एनडीबी कर्ज के लिए पहला समझौता कुछ दिनों पहले मध्य प्रदेश में हुआ. इसके संस्थापक देशों भारत, चीन, ब्राजील, रूस और दक्षिण अफ्रीका द्वारा तय की गई भूमिका में फिट बैठना चाहिए.' जेटली ने कहा कि उम्मीद है कि एनडीबी सस्ती दरों पर लोन मुहैया कराएगा.

इससे पहले एनडीबी के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर चुके कामत ने कहा कि बैंक 2017 में इसके सदस्य देशों की 15 परियोजनाओं में दो अरब डॉलर से अधिक की धनराशि मुहैया कराने के बारे में सोच रहा है. कामत ने कहा, 'हमें बैंक के संचालन के प्रथम वर्ष में अपार सहयोग मिला. हम मई में अफ्रीकी क्षेत्रीय केंद्र खोले जाने को लेकर आश्वस्त हैं.' बता दें कि बैंक का मुख्यालय शंघाई में है, जो अतीत में सात परियोजनाओं का वित्तपोषण कर चुका है और अब वह अफ्रीका में अपना पहला क्षेत्रीय केंद्र खोलने की दिशा में अग्रसर है.
First published: April 1, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर