1 अप्रैल से इन योजनाओं पर मिलेगा कम ब्याज

भाषा
Updated: March 31, 2017, 1:38 PM IST
1 अप्रैल से इन योजनाओं पर मिलेगा कम ब्याज
सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), किसान विकास पत्र और सुकन्या समृद्धि योजना जैसी लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 प्रतिशत की कटौती की है. यह कटौती वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए की गई है.
भाषा
Updated: March 31, 2017, 1:38 PM IST
सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), किसान विकास पत्र और सुकन्या समृद्धि योजना जैसी लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 प्रतिशत की कटौती की है. यह कटौती वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए की गई है. इससे बैंक जमा दरों में कटौती कर सकते हैं.

ये है नये जमाने की नई निवेश पॉलिसी, 10 बातें जो कोई नहीं बताएगा!

जनवरी-मार्च तिमाही के मुकाबले अप्रैल-जून अवधि के लिए इन बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 फीसदी की कटौती की गई है. हालांकि बचत जमा पर सालाना 4 फीसदी ब्याज दर को बरकरार रखा गया है. पिछले साल अप्रैल से लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में तिमाही आधार पर ब्याज दर में बदलाव किया जा रहा है.

वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार पीपीएफ में निवेश पर अब सालाना 7.9 प्रतिशत ब्याज मिलेगा. पांच साल की राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र पर ब्याज दर इतनी ही होगी. फिलहाल इन दोनों योजनाओं पर ब्याज दर 8 प्रतिशत है. किसान विकास पत्र (केवीपी) में निवेश पर 7.6 फीसदी ब्याज मिलेगा और यह 112 महीने में परिपक्व होगा.

बालिकों के लिए शुरू सुकन्या समृद्धि योजना पर ब्याज दर सालाना 8.4 फीसदी होगी जो फिलहाल 8.5 फीसदी है. वरिष्ठ नागरिक बचत जमा योजना पर भी ब्याज दर 8.4 फीसदी होगी. वरिष्ठ नागरिक बचत जमा योजना पर ब्याज तिमाही आधार पर दिया जाता है.

संसद में आज पेश हो सकते हैं जीएसटी से जुड़े चार ज़रूरी विधेयक

एक से 5 साल की मियादी जमा पर ब्याज दर 6.9 से 7.7 फीसदी होगी और इसका भुगतान तिमाही आधार पर होगा. रेकरिंग जमा (आरडी) पर ब्याज दर 7.2 फीसदी होगी. मंत्रालय ने 2016-17 की चौथी तिमाही के लिए ब्याज दरों को अधिसूचित करते हुए कहा कि सरकार के निर्णय के आधार पर लघु बचत जमा योजनाओं पर ब्याज दरों को तिमाही आधार पर अधिसूचित किया जाता है. नई दरें एक अप्रैल से प्रभावी होंगी.

सरकार के इस कदम से बैंक लघु बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज के आधार पर जमा दर में कमी कर सकते हैं.
First published: March 31, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर