प्याज एक्सपोर्ट में 3 गुना इजाफा, लेकिन किसानों को कोई फायदा नहीं

News18Hindi
Updated: July 14, 2017, 6:32 PM IST
प्याज एक्सपोर्ट में 3 गुना इजाफा, लेकिन किसानों को कोई फायदा नहीं
किसान अपने प्याज को 2 से 4 रुपए प्रति किलो में बेचने पर मजबूर हैं।
News18Hindi
Updated: July 14, 2017, 6:32 PM IST
प्याज के कम कीमतों से  जहां एक ओर आम आदमी को राहत मिली है. वहीं, दूसरी ओर एक्सपोटर्स ने भी कम कीमत में प्याज खरीदकर बड़ी मात्रा में एक्सपोर्ट कर मोटा मुनाफा कमाया है, लेकिन किसान बंपर पैदावार के चलते कम कीमत पर प्याज बेचकर फायदा नहीं उठा पा रहा है. आपको बता दें कि 2016-17 के दौरान प्याज के एक्सपोर्ट में 3 गुना से भी ज्यादा की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. बांग्लादेश, श्रीलंका, थाईलैंड, कंबोडिया, रूस जैसे देशों में भारतीय प्याज की काफी डिमांड रहती है.

राष्ट्रीय बागवानी अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान (NHRDF) के मुताबिक मार्च में खत्म हुए वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान देश से कुल 34,92,718 टन प्याज का निर्यात हुआ है जो किसी भी वित्तवर्ष में हुआ सबसे अधिक एक्सपोर्ट है.

किसानों को नहीं मिल रहा है फायदा
देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी महाराष्ट्र के लासलगांव में गुरुवार को प्याज का अधिकतम भाव 7.01 रुपए प्रति किलो और औसत भाव 5.75 रुपए प्रति किलो रहा. दिल्ली में अधिकतम भाव 8 रुपए प्रति किलो और औसत भाव 7 रुपए प्रति किलो रहा. रिकॉर्ड प्याज एक्सपोर्ट के बावजूद किसानों को मिल रहे इस भाव को देखते हुए यही कहा जा सकता है कि कम भाव का फायदा उठाते हुए प्याज एक्सपोटर्स ने तो मोटी कमाई है लेकिन किसानों को इसका फायदा नहीं हुआ है.

आजादपुर मंडी में पोटेटो एंड अनियन मर्चेंट एसोसिएशन (पोमा) के प्रेसिडेंट राजिंदर कुमार ने न्यूज18 को बताया कि प्याज एक्सपोर्ट में उछाल अच्छी खबर है, लेकिन किसानों को इसका फायदा नहीं मिल पा रहा है. फिलहाल दिल्ली समेत कई राज्यों की थोक मंडी में प्याज के भाव 4-9 रुपए प्रति किलो है.

एक्सपोर्ट तीन गुना बढ़कर रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा
एक्सपोर्ट आंकड़ों की तुलना अगर 2015-16 में हुए एक्सपोर्ट से की जाए तो 2016-17 में एक्सपोर्ट 3 गुना से भी अधिक बढ़ा है, 2015-16 के दौरान देश से सिर्फ 11,14,418 टन प्याज का निर्यात हो पाया था. रिकॉर्डतोड़ एक्सपोर्ट से घरेलू बाजार में किसानों को प्याज का बेहतर भाव नहीं मिल पाया है. देश की अधिकतर मंडियों में अब भी किसानों को 7-8 रुपए प्रति किलो से ज्यादा का भाव नहीं मिल रहा है.

यह भी पढ़े: टमाटर की कीमतें 100 रुपए के पार, मुंबई-बेंगलुरु में सबसे ज्यादा बढ़े दाम

यह भी पढ़े: बाबा रामदेव की पतंजलि देश की सबसे विश्वसनीय ब्रैंड, ये है टॉप लिस्ट
First published: July 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर