नहीं लगेगा GST, अगर सेकेंड हैंड सामान को बेचते हैं सस्ता

News18Hindi
Updated: July 16, 2017, 11:49 AM IST
नहीं लगेगा GST, अगर सेकेंड हैंड सामान को बेचते हैं सस्ता
खरीदे गए सामान को परचेज प्राइस (खरीद कीमत) से कम पर बेचने पर नहीं लगेगा GST
News18Hindi
Updated: July 16, 2017, 11:49 AM IST
सेकेंड हैंड सामान को खरीदने और बेचने पर कोई गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) नहीं लगेगा. हालांकि, इसमें शर्त यह है कि खरीदे गए सामान को परचेज प्राइस (खरीद कीमत) से कम पर बेचा गया हो. यह बात सरकार ने कही है. सरकार की तरफ से यह स्पष्टीकरण तब आया है, जब सेकेंड हैंड गुड्स के डीलर्स और पुरानी, इस्तेमाल हो चुकी खाली बोतलों के बिजनेस में सक्रिय डीलर्स के लिए जीएसटी के तहत मार्जिन स्कीम की व्यावहरिकता को लेकर काफी संशय था.

GST नहीं लगने की शर्त
सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (CGST) रूल्स 2017 के नियम 32(5) के मुताबिक, सेकेंड हैंड सामान खरीदने और बेचने वाला कोई डीलर अगर सेकेंड हैंड सामान या यूज्ड सामान बेचता है तो उस पर जीएसटी नहीं लगेगा. लेकिन ऐसा तभी होगा जब जिस दाम पर सामान खरीदा हो उससे कम दाम पर उसे बेचा जा रहा हो, यानी वह सामान नुकसान उठाकर बेचा जा रहा हो. दोबारा बेचे जाने से पहले यह भी देखना होगा कि उस सामान के मूल रूप में ज्यादा बदलाव न किया गया हो. इस सुविधा को मार्जिन स्कीम कहा गया है.

डबल टैक्सेशन से भी बचा

GST एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर कोई पुराना सामान घाटे में बेचा जा रहा है तो उस पर गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स नहीं लगेगा. मार्जिन स्कीम का फायदा सेकेंड हैंड सामान का कोई भी रजिस्टर्ड डीलर ले सकता है. उसे सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (CGST) रूल्स 2017 के नियम 32(5) का पालन करना होगा. दो राज्यों के बीच भी सेकेंड हैंड सामान की खरीद-फरोख्त के लिए इस स्कीम का लाभ लिया जा सकेगाा. फाइनेंस मिनिस्ट्री की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, ऐसा करने से डबल टैक्सेशन से बचा जा सकेगा.
First published: July 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर