Exclusive: सर्विस के नाम पर ऐसे मनमाना पैसा वसूल रहे बैंक, एक्शन में सरकार

Updated: March 21, 2017, 9:59 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

सर्विस के नाम पर बैंक कस्टमर्स से ज्यादा चार्ज वसूल रहे हैं. ज्यादा चार्ज मिनिमम बैलेंस, कैश ट्रांजैक्शन चार्ज, एटीएम चार्ज के रूप में वसूला जा रहा है. सहयोगी चैनल सीएनबीसी-आवाज को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक उपभोक्ता मंत्रालय जल्द ही आरबीआई को इस संबंध में एक रिपोर्ट भेजने वाला है.

सरकार की एसबीआई से अपील, कम बैलेंस पर जुर्माने के फैसले पर फिर सोचे

Exclusive: सर्विस के नाम पर ऐसे मनमाना पैसा वसूल रहे बैंक, एक्शन में सरकार
सर्विस के नाम पर बैंक कस्टमर्स से ज्यादा चार्ज वसूल रहे हैं. ज्यादा चार्ज मिनिमम बैलेंस, कैश ट्रांजैक्शन चार्ज, एटीएम चार्ज के रूप में वसूला जा रहा है.

ग्राहक हो रहे परेशान

पिछले कुछ दिनों में तकरीबन सभी बड़े बैंकों ने कस्ट्मर्स पर या तो नए चार्ज का बोझ डाला है, या पुरानी चार्ज वापस लाए हैं. मसलन मिनिमम बैलेंस, कैश ट्रांजैक्शन चार्ज, एटीएम जैसे चार्ज हैं, जिन्हें लेकर ग्राहकों में काफी गुस्सा है. सूत्रों की मानें तो कस्टमर्स लगातार उपभोक्ता मामलों के मंत्रालयों को बैंक की शिकायतें मिल रही हैं. इन शिकायतों के आधार पर ही मंत्रालय एक्शन लेकर आरबीआई को रिपोर्ट भेजने जा रहा है. बता दें कि मंत्रालय ने यह चार्ज रिपोर्ट लोगों के सुझाव, शिकायत और आरटीआई के आधार पर बनाई है,  और रिपोर्ट में मनमाने चार्ज पर नाराजगी भी जाहिर की है.

जानें ये 10 अधिकार, परेशान नहीं कर सकेंगे बिल्डर, बैंक और इंश्योरेंस वाले

रिपोर्ट में लिखा है ये

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालयों की ओर से तैयार इस रिपोर्ट की खास बात यह कि इसमें डेबिट कार्ड पेमेंट पर चार्ज अनफेयर ट्रेड प्रैक्टिस, मेसेजिंग, एटीएम पर चार्ज भी अनफेयर ट्रेड प्रैक्टिस लेने का जिक्र किया है, साथ ही मंत्रालय़ ने इस पर आरबीआई से अपने अधिकार के तहत दखल की मांग करते हुए बैंकों को आरबीआई के गाइडलाइंन के मुताबिक चलने की हिदायत दी है.

First published: March 21, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp