लखनऊ टीसीएस मामले में राज्‍य ने कहा-करेंगे मदद, कंपनी ने कहा-नहीं होगी छंटनी

News18Hindi
Updated: July 14, 2017, 6:51 PM IST
लखनऊ टीसीएस मामले में राज्‍य ने कहा-करेंगे मदद, कंपनी ने कहा-नहीं होगी छंटनी
News18Hindi
Updated: July 14, 2017, 6:51 PM IST
टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) द्वारा लखनऊ ऑफिस बंद करने की घोषणा के बाद कंपनी के कर्मचारियों ने @saveTCSplease नामक ट्विटर अकाउंट के जरिए नौकरी बचाने की मुहिम छेड़ दी है. टीसीएस कर्मियों ने राज्‍य के मुख्‍य मंत्री योगी आदित्‍यनाथ से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक से इस मामले में दखल की गुहार लगाई है. इस बंदी से 2000 युवाओं की नौकरी खतरे में पड़ सकती है, हालांकि हंगामा मचने के बाद कंपनी ने कहा है कि वह अपने इम्‍पलॉई को नोएडा और इंदौर समेत दूसरी जगहों पर भेजेगी, न कि उनकी छंटनी करेगी. टीसीएस ने कहा है कि कंपनी अगले साल प्रधानमंत्री के लोकसभा क्षेत्र वाराणसी में एक बड़ा बीपीओ ऑपरेशन शुरू करने जा रही है. कुछ स्‍टाफ को इस सेंटर में भी भेजा जाएगा. इस मामले में राज्‍य सरकार भी सामने आ गई है.

डिप्टी सीएम ने कहा, मदद की जाएगी
प्रभावित टीसीएस कर्मियों की अपील पर राज्‍य सरकार भी सामने आ गई है. उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने टीसीएस के अधिकारियों से बात की है. मौर्य ने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि टीसीएस किराए के भवन में अपना कार्यालय चला रही था, जो महंगा था। अगर कंपनी इस मामले में पहले बात की होती तो इसका पहले ही कोई हल निकाला जा सकता था. उन्‍होंने कहा कि सरकार चाहती है कि यहां से कंपनी नहीं जाए, बल्कि और भी लोग यहां आएं।

क्‍यों बंद हो रहा है लखनऊ ऑफिस

मुनाफा कम होने की वजह से कंपनी दबाव में है. कंपनी यहां किराए की बिल्डिंग में ऑफिस चला रही है, जो उसे काफी महंगा पड़ रहा है. इसलिए कंपनी यहां का ऑफिस बंद कर कर्मियों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट करना चाहती है. वैसे भी ट्रंप के अमेरिकी राष्‍ट्रपति बनने के बाद बढ़ते वैश्विक दबाव के कारण अधिकांश टेक कंपनियां कंसॉलिडेशन मोड में है. कॉस्‍ट कम करने के साथ कंपनी के सामने इन दिनों टेक्‍नोलॉजिकल शिफ्ट की भी चुनौती है. टीसीएस समेत अधिकांश टेक कंपनियां क्‍लाउड कम्‍युटिंग, ऑटोमेशन जैसी नवीनतम टेक्‍नोलॉजी की तरफ बढ़ रही हैं. इससे भी वे कर्मचारी जिन्‍हें नई टेक्‍नोलॉजी की समझ नहीं है, उनके समक्ष नौकरी बचाने की चुनौती है.

लखनऊ में 10 पुराना है टीसीएस ऑफिस
लखनऊ के गोमती नगर में स्थित टीसीएस का ऑफिस 10 साल पुराना है. यहां ग्‍लोबल क्‍लाएंट्स के लिए कंपनी की टीम यहां काम करती है.

लखनऊ और सरकार को क्‍या होगी क्षति
योगी सरकार राज्‍य में कंपनियों को निवेश के लिए आकर्षित करने की कोशिश में लगी हुई है. ऐसे में टीसीएस जैसी बड़ी कंपनी का राजधानी से जाना सिर्फ इस शहर के लिए ही नहीं, बल्कि राज्‍य के लिए भी अच्‍छा संकेत नहीं है. इससे अन्‍य कंपनियां भी नोएडा या ग्रेटर नोएडा से आगे बढ़कर राज्‍य के अन्‍य शहरों में जाने से हिचकेंगी, जिससे अन्‍य शहरों का विकास प्रभावित होगा.
First published: July 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर