छोटी कंपनियों को अब आसानी से मिलेगा बैंक लोन, अधिक संख्‍या में निकलेगी जॉब

News18Hindi
Updated: July 12, 2017, 4:35 PM IST
छोटी कंपनियों को अब आसानी से मिलेगा बैंक लोन, अधिक संख्‍या में निकलेगी जॉब
credit growth, unorganised sector, जॉब ग्रोथ के लिए छोटी कंपनियों को आसान लोन मिलना जरूरी (Photo:PTI)
News18Hindi
Updated: July 12, 2017, 4:35 PM IST
नई जॉब पैदा होने की रफ्तार बेहद सुस्‍त होने के कारण आलोचनाओं से घिरी केंद्र सरकार ने असंगठित क्षेत्र को मजबूत करने के प्रयास तेज कर दिए हैं. वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने बैंकों और अन्‍य वित्‍तीय संस्‍थानों से असंगठित क्षेत्र से जुड़ी कंपनियों को अधिक लोन देने के लिए कहा है. उन्‍होंने कहा है कि ऐसी कंपनियों को अधिक लोन मिलने से जॉब ग्रोथ बढ़ेगी और जरूरतमंदों को नौकरी मिलेगी. चूंकि असंगठित क्षेत्र में ही 90 फीसदी लोगों को नौकरी मिलती है, ऐसे में सरकार के लिए इस सेक्‍टर को बूस्‍ट करना जरूरी हो गया है. जेटली के बयान से असंगठित क्षेत्र की कंपनियों को समय पर और बगैर कठिनाई से कर्ज मिलने की संभावना बढ़ गई है. ऐसा होने से रोजगार के अधिक अवसर निकलेंगे.

असंगठित सेक्‍टर को मुश्किल से मिलता है लोन
वित्‍त मंत्री ने कहा कि 10 में से 9 लोगों को असंगठित क्षेत्र में नौकरी मिलती है, इसके बावजूद इस सेक्‍टर को काफी मुश्किल से लोन मिल पाता है. उन्‍होंने कहा कि बैंकों व वित्‍तीय संस्‍थानों के संसाधनों का अधिक इस्‍तेमाल इस सेक्‍टर के लिए किया जाना चाहिए, ऐसा करके ही हम जरूरी संख्‍या में जॉब क्रिएट कर पाएंगे.

सेल्‍फ-हेल्‍प ग्रुप ने पैदा कीं लाखों नौकरियां

जेटली ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में सेल्‍फ-हेल्‍प ग्रुप्‍स (एसएचजी) ने लाखों नौकरियां पैदा की हैं. चूंकि अधिकांश ऐसे स्‍व-सहायता समूहों की प्रमुख महिलाएं हैं, इसलिए इनसे बड़ी संख्‍या में ग्रामीण महिलाओं को वित्‍तीय सुरक्षा मिली है. गौरतलब है कि एसएचजी मूवमेंट लगभग 25 साल पहले शुरू हुआ था. उस समय इस तरह के काफी कम समूह थे, लेकिन आज इनकी संख्‍या 85 लाख है.

छोटे कर्ज की आसानी से अदायगी करती हैं छोटी कंपनियां
जेटली ने कहा कि माइक्रोफाइनेंस स्‍कीमों के मामले में रीपेमेंट कैपिसिटी अधिक है, यानी कंपनियां या लोग छोटे कर्ज की अदायगी आसानी से कर देते हैं. हालांकि दिक्‍कत यह है कि एक दशक पहले की 10.7 फीसदी की तुलना में क्रेडिट ग्रोथ यानी बैंकों व अन्‍य वित्‍तीय संस्‍थानों द्वारा लोन देने की ग्रोथ 2016-17 में कम होकर छह दशक के निचले स्‍तर 5.08 फीसदी पर आ गई है.
First published: July 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर