'छत्तीसगढ़ में अब हाथ छाप और फूल छाप नहीं, जोगी छाप सरकार बनानी है'

Abdul Hameed Siddique | ETV MP/Chhattisgarh

First published: January 11, 2017, 9:55 PM IST | Updated: January 11, 2017, 10:01 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
'छत्तीसगढ़ में अब हाथ छाप और फूल छाप नहीं, जोगी छाप सरकार बनानी है'
Photo : Pradesh18\Etv

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जोगी) की सरकार बनी तो नक्सलवाद के अंत तक अजीत जोगी की राजधानी जगदलपुर, दंतेवाड़ा और सुकमा होगी. हिंदी के साथ छत्तीसगढ़ी में भी सभा को संबोधित करते हुए अजीत जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में अब हाथ छाप और फूल छाप नहीं, जोगी छाप सरकार बनानी है. गुलाबी रंग में राज्य को रंगना है.

जोगी बुधवार दोपहर हेलिकॉप्टर से किरंदुल पहुंचे जहां उनका जोरदार ढंग से स्वागत किया गया. ढोल-नगाड़ों पर गौर नृत्य करते समर्थकों द्वारा अजीत जोगी को फुटबॉल ग्राउंड से हजारों वाहनों के काफिले के साथ बाइक रैली की शक्ल में गजराज कैम्प ले जाया गया. इस दौरान पूरा किरंदुल जोगीमय हो गया. हजारों की तादाद में लोगों ने बाइक रैली में भाग लिया. वहीं आमसभा में भी लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा. बड़ी संख्या में कांग्रेसी और भाजपाई नेता छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जोगी) में शामिल हुए.

जानकारी के अनुसार, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में अभी दो साल का समय पर जोगी ने किरंदुल में हुई आमसभा को एकदम चुनावी सभा की तरह संबोधित किया. सभा में अजीत जोगी ने कहा कि यहां शोषित और मजदूर लोग रहते हैं. यहां की धरती में दुनिया का सबसे श्रेष्ठ लोहा है, जिसे बाहर के देश में भेजा जाता है. उन्होंने सरकार पर कटाक्ष करते कहा कि हैदराबाद में एनएमडीसी का कार्यालय हो या लोहा विदेशों में भेजो, लेकिन यहां भी एक फैक्ट्री लगाओ. उन्होंने कहा कि अगर मेरी सरकार आएगी तो मैं किरंदुल में भी एक फैक्ट्री लगाकर लोगों को रोजगार दूंगा.

उन्होंने सभा में मौजूद लोगों का साथ मांगते भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों पर स्थानीय लोगों की उपेक्षा करने का आरोप भी लगाया. जोगी ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दल प्रदेश के लोगों को भ्रमित कर रहे हैं. राज्य के विकास के लिए कार्य करने के बजाय अपने-अपने घर भर रहे हैं.

यह लोहा और दंतेश्वरी माई की धरती है

उन्होंने कहा कि किरंदुल की खदान से मिलने वाला लाभ कोई और उठा रहा है. यहां खदान में मजदूर दिन-रात पसीना बहाता है और उसे कुछ नहीं मिलता. सीएसआर के पैसे से रायपुर में हॉस्पिटल बनाया जाता है. यहां के मजदूर और उनके बच्चों को स्वास्थ्य और शिक्षा का लाभ नहीं मिलता। अब ऐसा नहीं होगा, मेरा राज आया तो यहां का पैसा यहीं काम आएगा. यह लोहा और दंतेश्वरी माई की धरती है, इस पर हमारा हक है. उन्होंने कहा कि हम लोहा बाहर भेजने के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन यहां भी फैक्ट्री लगनी चाहिए.

जोगी ने एनएमडीसी द्वारा स्थानीय परिवहन को काम नहीं दिए जाने पर भी आपत्ति दर्ज कराई.

यूपी, बिहार, ओडिशा, गुजरात आदि प्रदेशों का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में भी यहां का व्यक्ति ही राज करेगा तब सबका विकास संभव है.

facebook Twitter google skype whatsapp