धमतरी में कलेक्‍टर कार्यालय परिसर को बनाया शराब पीने का अड्डा

Abhishek Pandey | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 17, 2017, 6:12 PM IST
धमतरी में कलेक्‍टर कार्यालय परिसर को बनाया शराब पीने का अड्डा
जिला आबकारी अधिकारी मंजू केसर.
Abhishek Pandey | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 17, 2017, 6:12 PM IST
छत्‍तीसगढ़ के धमतरी जिला मुख्‍यालय में शराबियों ने जिले के सबसे बड़े सरकारी ऑफिस यानी कलेक्‍टर कार्यालय के परिसर को ही शराब पीने का अड्डा बना लिया है.

छत्‍तीसगढ़ के धमतरी में मयकशों को पैग लगाने के ठौर नहीं मिल पा रहे हैं. एक तो पुलिस की सख्ती है और रही-सही कसर महिला कमांडो पूरी कर रही हैं. लिहाज़ा अब सरकारी दफ्तरों को मयकशी का अड्डा बनाया जा रहा है. धमतरी में तो शराबियों ने कलेक्टर कार्यालय तक को नहीं छोड़ा. यहां न पुलिस का डर है और न ही महिला कमांडो का खतरा. शराबी यहां बेखौफ होकर शराब पीने लगे हैं. पीने के बाद शराब की खाली बोतलें, सिगरेट के खाली पैकेट वगैरह यहीं छोड़ जाते हैं.

इससे स्वच्छ घोषित धमतरी के प्रमुख कार्यालय में गंदगी तो फैलती ही है, यहां की सुरक्षा के इंतज़ाम की भी पोल खुल गई है कि किस तरह से बाहरी लोग यहां रात में बेखौफ घुसकर जाम टकराते हैं.

ये जिले का सबसे बड़ा सरकारी कार्यालय है. कलेक्टर सहित तमाम बड़े अफसरों के दफ्तर यहां हैं जो रोजाना आते-जाते हैं और काम करते हैं. दिनभर गेट पर सुरक्षाकर्मी तैनात रहते हैं, आने-जाने वालों की एंट्री होती है. ऐसे में दिन में यहां शराबखोरी कतई संभव नहीं है, लेकिन रात में ये कैसे संभव हो पाता है, यह एक बड़ा सवाल है. यहां सरकारी खज़ाना भी है, साथ में एसबीआई की शाखा भी है. इस बात में अब किसी को शक नहीं है कि सुरक्षा में गंभीर लापरवाही बरती जा रही है.

जिले के आबकारी विभाग का भी दफ्तर यहीं है. उनकी नाक के नीचे सब कुछ चल रहा है. सवाल पूछने पर जिला आबकारी अधिकारी मंजू केसर कहती हैं कि इस बात की जांच करवाकर दोषि‍यों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उनका कहना है कि भविष्‍य में ऐसा न हो, इसके लिए गश्‍त बढ़ाने सहित अन्‍य उपाय किए जाएंगे.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर