सरकारी उचित मूल्य दुकानों में पकड़ी गई लाखों की हेराफेरी

Abdul Aslam | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 16, 2017, 5:46 PM IST
सरकारी उचित मूल्य दुकानों में पकड़ी गई लाखों की हेराफेरी
कोरबा जिले की दुकान जिसमें हेराफेरी पाई गई फोटो-ईटीवी
Abdul Aslam | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 16, 2017, 5:46 PM IST
छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में प्रशासनिक जांच के दौरान सरकारी उचित मूल्य दुकानों में लाखों की हेराफेरी का मामला सामने आया है. सरकारी वेबसाइट से आवंटित खाद्यान्न तीन गांव की दुकानों में भेजा गया स्टॉक पूरा बंटा नहीं और बचा स्टॉक भी गायब मिला.

मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम कोरबा ने कार्रवाई करते हुए जिले के बड़गांव और अरसेना पंचायत से दुकान चलाने का अधिकार निरस्त कर दिया है. यहां की दुकानों को नियमित ढंग से चलाने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तहत पास के लैम्प्स को दे दिया गया है.

इस सबंध में खाद्य निरीक्षक टीम का गठन कर दुकानों में छापामारी की कार्रवाई शुरू की गई है.
ग्राम पंचायत बड़गांव में स्टॉक की जांच की गई, जांच के दौरान 224.82 क्विंटल चावल, 10.06 क्विंटल शक्कर व 17.03 क्विंटल चना कम पाया गया, इसी तरह ग्राम पंचायत अरसेना में विभागीय वेबसाइट से मिलान किए जाने पर 38.70 क्विंटल चावल, 23.29 क्विंटल चना व 16.07 क्विंटल शक्कर कम पाया गया है.

जिलगा गांव में भी चावल कम पाया गया है. प्रशासन के स्तर पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है. ग्राम पंचायत कथरीमाल में भी अनियमितता पाई गई है, शक्कर, चावल व नमक वितरण में मिलान सही नहीं पाया गया है.

इस संदर्भ में कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए लिखा गया है कि निर्धारित समय में कम पाई गई सामग्री का हिसाब दें या फिर 31 जुलाई की स्थिति में 2 लाख 73 हजार रुपए का चालान जमा करें अन्यथा कानूनी कार्रवाई की जाएगी. कोरबा के  एसडीएम वीरेंद्र बहादुर पंचभाई ने कहा कि  नियतिता सही पाई गई तो गबन राशि की वसूली की जाएगी.
First published: July 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर