स्कूल के नाम पर विधायक निधि ही डकार गए भ्रष्टाचारी!

News18India

Updated: April 3, 2012, 10:28 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

गाजीपुर। गाजीपुर जिले की भाला ग्राम सभा में एक स्कूल के नाम पर फ़र्ज़ी ढंग से विधायक फंड से हजारों रुपए निकाल लिए गए और किसी को इस भ्रष्टाचार की भनक तक नहीं लगी। साल 2005-06 में रीता मिश्रा पूर्व माध्यमिक बालिका विद्यालय को विधायक फंड से एक लाख रुपये स्वीकृत किए गए जिसमें से 75 हजार रुपये की धनराशि जारी भी कर दी गई लेकिन ताज्जुब की बात ये है कि पूरे जिले में ना तो इस नाम से कोई स्कूल है और ना ही इसके नाम से कोई भूमि आवंटित की गई है।

रीता मिश्रा पूर्व माध्यमिक बालिका विद्यालय को कितनी राशि आवंटित की गई इस मामले की तह पर जाने के लिए सिटिजन जर्नलिस्ट सुरेंद्र सिंह ने अक्टूबर में RTI से जानकारी मांगी। सुरेंद्र को पता चला कि स्कूल निर्माण के लिए विधायक फंड से 1 लाख रुपये मंजूर किए गए थे, इसमें से 75 हजार रुपये जारी भी कर दिए गए।

लेकिन जब जिले में इस नाम से कोई स्कूल ही नहीं है तो ये पैसा कहा गया? सुरेंद्र की जानकारी के मुताबिक़ ये 75 हज़ार रुपए जिस स्कूल के खाते में गए वो खाता उपेंद्र मिश्रा संचालित करते हैं। सीजे बनकर सुरेंद्र उनसे पूछने गए कि आखिर वो स्कूल कहां है और जारी पैसे का उन्होंने क्या किया?

स्कूल प्रबंधक के गोलमोल जवाब से सुरेंद्र सिंह अब भी संतुष्ट नहीं हुए इसलिए वह विधायक उमाशंकर कुशवाहा से मिलने के बाद जिलाधिकारी से भी मिलने पहुंचे। जिलाधिकारी से उन्होंने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की थी।

सुरेंद्र कहते हैं कि ये सरकारी खजाने की खुली लूट है इसलिए वो इस मामले को आसानी से छोड़ने वाले नहीं हैं। जब तक डकारी गई रकम जब्त नहीं हो जाती और दोषी पकड़े नहीं जाते तब तक वो इसी तरह अपना दबाव बनाते रहेंगे।

First published: April 3, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp