‘दिल्ली मोर’ से मेट्रो-फीडर बसों में करें बेरोक-टोक सफर

वार्ता

Updated: August 11, 2012, 12:34 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो और मेट्रो फीडर बसों में यात्रा करने के लिए अब आपको बार-बार टिकट या टोकन लेने की जरूरत नहीं है। आप ‘दिल्ली मोर’ कार्ड को स्वैप कर इन में सफर सकते हैं। मेट्रो के स्मार्ट कार्ड से भी इस सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है।

केन्द्रीय शहरी विकास मंत्रालय में सचिव डॉ. सुधीर कृष्णा ने आज ‘दिल्ली मोर’ कार्ड लांच किया। इस मौके पर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंधन निदेशक मंगू सिंह भी मौजूद थे। डॉ. कृष्णा ने कहा कि जल्द ही कार्ड का उपयोग दिल्ली परिवहन निगम, डीटीसी की बसों, कलस्टर बसों, एयरपोर्ट मेट्रो और पार्किंग स्थलों पर भी किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि यह यात्रियों के लिए बड़ी सुविधा है। अब उन्हें खुले पैसे लेकर चलने तथा परिवहन के अलग अलग साधनों में बार बार टिकट लेने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में इस कार्ड का दायरा बढ़ाकर इसे पूरे देश में लागू किया जाएगा।

‘दिल्ली मोर’ से मेट्रो-फीडर बसों में करें बेरोक-टोक सफर
दिल्ली मेट्रो और मेट्रो फीडर बसों में यात्रा करने के लिए अब आपको बार-बार टिकट या टोकन लेने की जरूरत नहीं है। आप ‘दिल्ली मोर’ कार्ड को स्वैप कर इन में सफर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि दिल्ली मेट्रो के सभी स्मार्ट कार्ड आज से ‘दिल्ली मोर’ कार्ड की तरह से काम करना शुरू कर देंगे। सबसे पहले इस कार्ड को फीडर बसों के रुट नम्बर एमएल 5 और 56 में लांच किया गया है। ये बसें शास्त्री पार्क स्टेशन से अक्षरधाम, नोएडा लिंक रोड, मयूर विहार फेज वन, धर्मशिला कैंसर अस्पताल और वसुंधरा एंकलेव होते हुए मयूर विहार फेज थ्री जाती हैं।

शहरी विकास मंत्रालय की ‘दिल्ली मोर’ कार्ड को राज्य परिवहन की बसों, निजी ऑपरेटरों की बसों और भारतीय रेलवे में शुरू करने की भी योजना है। मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरू, जयपुर, लखनऊ और अहमदाबाद जैसे शहरों में इस कार्ड को अगले वर्ष से शुरू किए जाने की संभावना है।

दिल्ली मेट्रो की इस कार्ड को और सुविधाजनक बनाने की योजना है जिसके तहत मेट्रो के किराया संग्रहण द्वारों पर ऐसी मशीनें लगाई जाएंगी जिनपर इन कार्डों का रिचार्ज किया जा सकेगा। इसके लिए यात्री को अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करना होगा।

First published: August 11, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp