वाजपेयी की नई टीम में उमा भारती को भी जगह नहीं!

आईएएनएस
Updated: February 25, 2013, 9:43 AM IST
वाजपेयी की नई टीम में उमा भारती को भी जगह नहीं!
लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने शनिवार को अपनी नई प्रदेश टीम की घोषणा तो कर दी, नई टीम में फायर ब्रांड नेता और चरखारी से विधायक उमा भारती का नाम भी शामिल नहीं है।
आईएएनएस
Updated: February 25, 2013, 9:43 AM IST
लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने शनिवार को अपनी नई प्रदेश टीम की घोषणा तो कर दी, लेकिन इसमें जगह नहीं मिलने से नाराज बागियों ने अपनी शिकायत केंद्रीय नेतृत्व तक पहुंचाने की कवायद शुरू कर दी है। नई टीम में फायर ब्रांड नेता और चरखारी से विधायक उमा भारती का नाम भी शामिल नहीं है।

प्रदेश नेतृत्व की तरफ से हालांकि संशोधित सूची जारी करने की बात भी कही जा रही है। वाजपेयी ने शनिवार को ही प्रदेश की नई टीम की घोषणा की थी। वाजपेयी की इस टीम में जहां नेता पुत्रों को तरजीह दी गई है, वहीं अच्छे-अच्छे पदाधिकारियों की भी छुट्टी कर दी गई है। कुछ नाम चौंकाने वाले थे। सूची में कुछ नाम ऐसे हैं जिन्हें अब तक कोई नहीं जानता था।

प्रदेश के एक बड़े नेता बताते हैं कि बीजेपी के निष्ठावान और जनाधार वाले नेताओं की जगह गणेश की तरह परिक्रमा करने वाले लोगों को ही जगह मिली है। जगह पाने में नाकाम रहे नेताओं ने अपनी शिकायत केंद्रीय नेतृत्व तक पहुंचाने का सिलसिला शुरू कर दिया है।

प्रदेश स्तर पर जिन प्रमुख नेताओं को नई टीम में शामिल नहीं किया गया, उनमें लखनऊ के महापौर दिनेश शर्मा और एस सी राय भी शामिल हैं। ये दोनों लोग लखनऊ के वरिष्ठ भाजपाइयों में गिने जाते हैं। बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे वाजपेयी के लिए बागी मुसीबतें खड़ी कर सकते हैं। समय रहते वाजपेयी को उनकी चिंताओं को समझना होगा और उन्हें आश्वस्त करना होगा।

उमा को नई टीम में जगह नहीं मिलने के बारे में प्रदेश अध्यक्ष वाजपेयी ने कहा कि उमा भारती का नाम भूलवश छूट गया है। संशोधित सूची जल्द ही जारी की जाएगी, जिसमें उनका नाम स्थाई आमंत्रित सदस्यों के साथ शामिल किया जाएगा। वाजपेयी ने कहा कि उमा भारती राष्ट्रीय स्तर की नेता हैं और इस नाते उन्हें स्थाई आमंत्रित सदस्यों की श्रेणी में आने का अधिकार प्राप्त है।

First published: February 25, 2013
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर