भूख हड़ताल पर बैठा लूट में मारे गए लोगों का परिवार, कहा- बदमाशों का करो एनकाउंटर

News18India.com
Updated: May 18, 2017, 3:36 PM IST
भूख हड़ताल पर बैठा लूट में मारे गए लोगों का परिवार, कहा- बदमाशों का करो एनकाउंटर
भूख हड़ताल पर बैठे मृतक मेघ के परिवार वाले.
News18India.com
Updated: May 18, 2017, 3:36 PM IST
15 मई को मथुरा में लूट की एक घटना के दौरान मारे गए मेघ अग्रवाल के परिजन भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं. पूरे परिवार ने होली गेट चौराहे पर भूख  हड़ताल शुरु कर दी है. परिजनों की मांग है कि घटना में शामिल सभी बदमाशों का उनकाउंटर किया जाए.

लूट की एक घटना के दौरान बदमाशों ने मेघ अग्रवाल सहित दो लोगों की हत्या कर दी थी. तीन अन्य लोगों को गोली मारक घायल कर दिया था. चार करोड़ रुपये से अधिक की लूटपाट की थी. ये घटना उस वक्त हुई थी जब मेघ अपनी सराफा की दुकान पर बैठे हुए थे.

बुधवार को ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा और डीजीपी उत्तर प्रदेश सुलखान सिंह ने मेघ के परिवार वालों से मिलकर उन्हें ही हत्यारों के पकड़े जाने का आश्वासन दिया था. लेकिन अभी तक पुलिस के किसी भी सुराग तक न पहुंचने के चलते गुरुवार की दोपहर परिवार भूख हड़ताल पर बैठ गया.

भूख हड़ताल पर बैठे मृतक मेघ के परिवार वाले.


मेघ के पिता महेश चन्द्र अग्रवाल, मां मंजू अग्रवाल, पत्नी क्रीति अग्रवाल, बहन नलिनी अग्रवाल, चाचा अजय अग्रवाल, चाची रचना अग्रवाल, बेटा तक्क्ष और चचेरा भाई वासु भी भूख हड़ताल पर बैठ गया है.

परिवार की मांग है कि बदमाशों को गिरफ्तार मत करो, उनका एनकाउंटर करो. मृतक के परिवार के भूख हड़ताल पर बैठने से पुलिस-प्रशासन में हड़कंप मच गया है. सूचना मिलते ही अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं. घटना के विरोध में आज तीसरे दिन भी मथुरा के बाजार नहीं खुले हैं.

पुलिस नहीं जारी कर रही स्कैच

भूख हड़ताल पर बैठे मृतक मेघ के परिवार वाले.


मृतक के परिवार और व्यापारियों में इस बात को लेकर भी गुस्सा है कि सीसीटीवी में बदमाशों के चेहरे आने के बाद भी पुलिस उनके स्कैच जारी नहीं कर रही है. बदमाशों से संबंधित कोई भी पहचान सार्वजनिक नहीं की गई है. शहर में बदमाशों के पोस्टर भी नहीं लगवाए गए हैं.

सांसद हेमामालिनी के खिलाफ जताया रोष
भूख हड़ताल के दौरान मथुरा से सांसद हेमामलिनी के खिलाफ भी रोष जाहिर किया गया. परिवार वालों का कहना है कि घटना को चार दिन बीत चुके हैं. लेकिन अभी तक न तो सांसद खुद आई हैं और न ही उनका कोई पैगाम. घटना को लेकर वो एकदम संवेदनहीन बनी हुई हैं.

3.30 बजे पहुंच अधिकारियों ने खत्म कराई भूख हड़ताल 

भूख हड़ताल स्थल पर पहुंचे अधिकारियों ने मृतक के पिता महेश अग्रवाल से बात की. इसी दौरान सिटी मजिस्ट्रेट राम यादव ने महेश अग्रवाल के कान में कुछ कहा. इसी के बाद परिजनों ने भूख हड़ताल खत्म करने का फैसला ले लिया.

चर्चा हो रही है कि मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट ने महेश अग्रवाल को भरोसा दिलाते हुए कहा है कि हम बदमाशों के बहुत नजदीक तक पहुंच चुके हैं. आपके ऐसा करने से पुलिस की जांच प्रभावित होगी.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर