आनंदपाल नहीं 209 दिन बाद गुरुग्राम के इस गैंगस्टर का हुआ था अंतिम संस्कार

News18Hindi
Updated: July 18, 2017, 11:29 AM IST
आनंदपाल नहीं 209 दिन बाद गुरुग्राम के इस गैंगस्टर का हुआ था अंतिम संस्कार
फाइल फोटो: संदीप गाड़ौली-अनंगपाल सिंह
News18Hindi
Updated: July 18, 2017, 11:29 AM IST
पुलिस एनकाउंटर में मारे गए राजस्‍थान के गैंगस्टर आनंदपाल का 20 दिन बाद अंतिम संस्कार हुआ, लेकिन हरियाणा के मोस्‍ट वांटेड गैंगस्‍टर का शव तो 209 दिन बाद जलाया गया था.

हम बात कर रहे हैं एनकाउंटर में मारे गए संदीप गाड़ौली का. गुरुग्राम पुलिस ने 7 फरवरी 2016 को मुंबई के होटल एयरपोर्ट मेट्रो में संदीप का एनकाउंटर कर दिया था. जबकि उसकी बहन सुदेश की जिद की वजह से उसका अंतिम संस्‍कार तीन सितंबर 2016 को हुआ.

गैंगस्‍टर की बहन ने एनकाउंटर करने वाले सभी पुलिसकर्मियों और साजिशकर्ताओं की गिरफ्तारी तक अंतिम संस्‍कार न करने का एलान किया था. इस मामले में मुंबई पुलिस की एसआईटी ने गुड़गांव के चार पुलिस कर्मियों संदीप की प्रेमिका और उसकी मां को गिरफ्तार किया, तब जाकर उसकी लाश जलाई गई.

संदीप के परिजनों ने भी आनंदपाल के परिजनों की तरह एनकाउंटर को फर्जी बताया था. संदीप की लाश मुंबई के जेजे अस्पताल में 208 दिन तक रखी रही. संदीप पर कत्ल, कत्ल की कोशिश, धमकी, जबरन वसूली और सट्टेबाजी जैसे 36 से ज्यादा संगीन मामले दर्ज थे.

गाड़ौली की बहन ने गुड़गांव के तत्‍कालीन पुलिस कमिश्‍नर नवदीप सिंह विर्क पर भी हत्‍या करवाने का आरोप लगाया था. सुदेश ने पुलिस को अदालती जाल में फांस दिया. उसे मुंबई हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक दौड़ाया.

anandpal singh फाइल फोटो: गैंगस्टर आनंदपाल सिंह

गुडगांव पुलिस ने अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी तक को अदालत में अपना पक्ष रखने के लिए खड़ा किया लेकिन सुदेश के पैंतरों ने पुलिस को राहत की सांस नहीं लेने दी.

उसने तय किया कि यदि वह अपने भाई की लाश का अंतिम संस्कार नहीं करेगी तो एनकाउंटर करने वाली टीम के खिलाफ कार्रवाई का दबाव बनेगा. गैंगस्‍टर की बहन की जिद के आगे गुड़गांव पुलिस बेबस हो गई.
First published: July 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर