रेप कैपिटल बनी दिल्ली, 5 सालों में 300 गुना बढ़े रेप के मामले!

News18Hindi
Updated: July 13, 2017, 1:25 PM IST
रेप कैपिटल बनी दिल्ली, 5 सालों में 300 गुना बढ़े रेप के मामले!
Image Source: ANI
News18Hindi
Updated: July 13, 2017, 1:25 PM IST
दिल्ली पुलिस के जारी किए गए ताजा आंकड़ों पर गौर करें तो राजधानी दिल्ली सचमुच रेप कैपिटल के रुप शुमार हो चुकी है. जारी किए आकंड़ों के मुताबिक वर्ष 2011 में पुलिस रिकॉर्ड में 511 बलात्कार के मामले दर्ज हुए थे जबकि वर्ष 2011 से 2016 के बीच इन मामलों करीब 300 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई.

पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक वर्ष 2011 से वर्ष 2016 के बीच राजधानी में कुल 2155 बलात्कार के केस दर्ज किए गए हैं, जो इसके पहले दर्ज हुए रिकॉर्ड की तुलना में 277 फीसदी अधिक हैं.



साल 2012 में निर्भया रेप कांड के बाद रेप के दर्ज हुए मामलों में 132 फीसदी की वृद्धि देखी गई. बाद में दर्ज रिपोर्ट में 32 फीसदी की दर से वृद्धि हुई और वर्ष 2013 में जहां रेप के 1136 केस दर्ज हुए वहीं, वर्ष 2016 यह आंकड़ा 2155 तक पहुंच गए. इसी तरह वर्ष 2012 से वर्ष 2016 के बीच बलात्कार करने के इरादे से महिलाओं पर हुए हमलों (आईपीसी की धारा 354) के केस में भी 473 फीसदी की वृद्धि देखी हुई.

रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिए शुरू किए गए नेशनल व्हीकल सिक्युरिटी व ट्रैकिंग सिस्टम और वूमेंस हेल्पलाइन जैसे प्रयास ऐसे बलात्कार व यौन से जुड़े अपराधों में कमी लाने में असफल रहे. लोकसभा में दिए मंत्रालय के जबाव से संकेत मिलता है कि इस दौरान सार्वजनिक परिवहन में महिलाओं की सुरक्षा के लिए आवंटित किए फंड का भी समुचित रुप से सदुपयोग नहीं किया जा सका.



साल 2017 में रेप के दर्ज हो चुके हैं 836 केस
दिल्ली पुलिस द्वारा जारी वर्ष 2017 में दर्ज हुए रेप के केस और भी भयावह हैं. रिपोर्ट कहती है कि वर्ष 2017 के पहले 5 माह में अब तक कुल 836 रेप के केस दर्ज हो चुके हैं. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र महिलाओं के लिए लगातार भयावह बना हुआ है.

पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक गत 19 जून, 2017 के 48 घंटे के अंतराल में कुल 5 रेप के मामले दर्ज किए गए. इनमें एक शॉपिंग माल की कार पार्किंग में एक 24 वर्षीय महिला के साथ रेप और दिल्ली से सटे इलाके में एक 26 वर्षीय महिला के साथ चलती गाड़ी में गैंगरेप के केस शामिल है.



नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो( NCRB)के नवीनतम उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2015 में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कुल 3430 रेप के केस दर्ज हुए. इनमें अकेले दिल्ली संघ राज्य में दर्ज हुए मामले का औसत 64 फीसदी है. महिलाओं के खिलाफ अपराध में दर्ज अन्य मामलों में सर्वाधिक केस पति व ससुराल पक्ष द्वारा की गई क्रूरता, अपहरण और महिला बलात्कार जैसे केस शामिल हैं.

महिला का बलात्कार करने के इरादे से किए गए हमले वाले अपराधों को महिला यौन उत्पीड़न, आपराधिक बल प्रयोग, ताक-झांक और पीछा करने जैसे अपराधों की तुलना में अधिक गंभीर जुर्म में माना गया है. महिला का बलात्कार अपराध में सार्वजनिक जगहों व परिवहन में यौनजनित टिप्पड़ी, भाव-भंगिमा जैसे अपराध शामिल है.

क्यों अपराधों के रिपोर्ट में हो रही है वृद्धि
दिल्ली पुलिस द्वारा जारी आकंड़ों के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली प्रत्येक वर्ष अनगिनत संख्या में बलात्कार जैसे अपराध होते हैं, लेकिन यह पहली बार है जब वर्ष 2011 में दर्ज 572 रेप केस की तुलना में वर्ष 2016 में 277 फीसदी के औसत में रेप केस में वृद्धि हुई है.
First published: July 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर