तस्करों को पकड़ते-पकड़ते इंस्पेक्टर खुद बन गया ड्रग तस्कर!

Rahul Mahajan | News18Hindi
Updated: June 15, 2017, 6:12 PM IST
Rahul Mahajan | News18Hindi
Updated: June 15, 2017, 6:12 PM IST
'जाते थे जापान पहुंच गए चीन' वाली कहावत को जीवंत होते तो आपने बहुतों बार देखा और सुना होगा, लेकिन पंजाब के कपूरथला में एसएचओ पद पर तैनात बहादुर इंस्पेक्टर के नाम से मशहूर इस इंस्पेक्टर की कहानी चकित ही नहीं हैरत में डालती है. जी हां, बहादुर इंस्पेक्टर की दास्तां है ही कुछ ऐसी.

कहानी पंजाब के कपूरथला में सीआईए स्टाफ के एसएचओ के पद तैनात इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह की है, जिनका करियर ड्रग तस्करों के खिलाफ कई पर्दाफाश के कीर्तिमानों से लबरेज है. इनकी बहादुरी किस्से पंजाब के कई जिलों में भी मशहूर थे. जिनको बहादुरी के लिए कई बार पुलिस मेडल से भी नवाजा गया है.

ताजा ख़बर है कि ड्रग तस्करों के दांत खट्टे करने वाले इस बहादुर इंस्पेक्टर को अब गिरफ्तार कर लिया गया है. चौंकिए नहीं, इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह पर ड्रग तस्करी का आरोप है, जिन्हें जालंधर में गिरफ्तार किया जा चुका है।

यानी इंद्रजीत सिंह को जिन्हें ड्रग तस्करों को पकड़ने के लिए पुलिस द्वारा कई मेडल और सम्मान से नवाजा गया था, अब खुद ड्रग तस्करों की जमात में शामिल हो चुके थे. निः संदेह यह ख़बर चौंकाने वाला है, लेकिन उससे अधिक यह दुर्भाग्यपूर्ण है.

सिंथेटिक ड्रग का किया था पर्दाफाश
वर्ष 2013 में इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह जब देहाती पुलिस में स्पेशल स्टाफ के इंचार्ज पर तैनात था तो उसने राजा कंदोला के करोड़ों रुपए के सिंथेटिक ड्रग रैकेट का पर्दाफाश किया था, जिसके लिए उन्होंने काफी प्रशंसा बटोरी थी. ड्रग तस्करों के खिलाफ इंस्पेक्टर इंद्रजीत सिंह के कारनामें जारी रहा. कहते हैं कि पंजाब में ड्रग तस्करों के लिए इंद्रजीत सिंह खौफ बन चुके थे.

बहादुरी के लिए मिले कई पुलिस मेडल
15 अगस्त, 2017 को इंदरजीत सिंह को जालंधर में एक आयोजित सरकारी समारोह में बहादुरी पुरस्कार से नवाजा गया था. इंदरजीत ने 13 गैंगस्टर्स को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया था. इसके अलावा भी इंदरजीत को कई मेडल से भी नवाजा जा चुका है.

इंद्रजीत के आवास पर छापेमारी के बाद मिला ड्रग का जखीरा
इंद्रजीत के आवास पर छापेमारी के बाद मिला ड्रग का जखीरा


इंदरजीत के घर मिला ड्रग का जखीरा
इंदरजीत के घर में छापेमारी में एसटीएफ ने चार किलो हेरोइन, तीन किलो स्मैक, एक एके-47 रायफल, एक इटली निर्मित पिस्टल, पिस्टल के 66 कारतूस, 16.50 लाख रुपए और 3550 पौंड सहित कई दूसरे बंदूकों के जिंदा कारतूस बरामद किए.

आपराधिक गतिविधियों में लिप्त था इंद्रजीत
एसटीएफ के एआईजी मुखविंदर सिंह भुल्लर के मुताबिक इंदरजीत सिंह आपराधिक गतिविधियों में लिप्त था और नशा तस्करों के साथ उसके करीबी संबंध हैं. एसटीएफ की टीम ने सोमवार को सुबह 5 बजे पुलिस लाइन जालंधर में इंदरजीत सिंह के सरकारी आवास पर छापेमारी कर उसे गिरफ्तार कर किया.

बेंच देता था जब्त किया अधिकतर ड्रग
एसटीएफ के मुताबिक इंदरजीत सिंह ड्रग तस्करी के एक गिरोह से मिला हुआ था और दूसरे गिरोह का सामान पकड़ता था. बताया जा रहा है कि इंदरजीत सिंह जब्त किया ज्यादातर माल बेच देता था और कागजों में थोड़े से सामान की बरामदगी दिखाई जाती थी.

दूसरे गिरोहों से करता था ड्रग की डील
स्पेशल टास्क फोर्स ने मंगलवार को तरनतारन में खुलासा करते हुए बताया कि इंदरजीत सिंह ड्रग तस्करी के आरोप में पकड़े गए तस्करों को बरी कराने के लिए डील भी कर लेता था. बाद में वह उनसे भी पैसे लेता था और उनसे जब्त ड्रग्स का कारोबार भी करता था.
First published: June 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर