महाभियोगः भोपाल गैस कांड की पृष्ठभूमि पर लिखा एक सशक्त उपन्यास

News18India.com
Updated: July 12, 2016, 6:36 PM IST
महाभियोगः भोपाल गैस कांड की पृष्ठभूमि पर लिखा एक सशक्त उपन्यास
दरअसल ये उपन्यास गैस कांड से शुरू होकर उसके बाद सालों तक इस त्रासदी को लेकर समाज, देश, सामाजिक कार्यकर्ताओं ,प्रेस और न्याय व्यवस्था के चक्रव्यूह में जो चला उसकी कहानी है।
News18India.com
Updated: July 12, 2016, 6:36 PM IST
‘महाभियोग’ अंजली देशपांडे का हिंदी में पहला उपन्यास है। भोपाल गैस कांड की पृष्ठभूमि पर लिखा ये उपन्यास अंग्रेजी में ‘इम्पीचमेंट’ नाम से पहले प्रकाशित हो चुका है। यह किताब राजकमल प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की गई है। औद्योगिक विकास की जो निर्दय, निर्विवेक विरासत भोपाल गैस कांड के रूप में लगभग तीस साल पहले भोपाल वासियों के ऊपर टूट पड़ी थी, वही इस उपन्यास का मूल विषय है।

दरअसल ये उपन्यास गैस कांड से शुरू होकर उसके बाद सालों तक इस त्रासदी को लेकर समाज, देश, सामाजिक कार्यकर्ताओं ,प्रेस और न्याय व्यवस्था के चक्रव्यूह में जो चला उसकी कहानी है।

नब्बे और उसके बाद जन्मे लोग, बहुत संभव है कि इस घटना के बारे में बहुत मूर्त ढंग से कुछ न सोच पाते हों, उनके लिए यह उपन्यास सिर्फ इसलिए भी जरूरी है कि शायद पहली बार किसी उपन्यास में वे विवरण आए हैं, जो उन्हें उस त्रासदी की भयावहता को महसूस करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही उस पूरे वैचारिक, सामाजिक और प्रशासनिक-न्यायिक विमर्श को जानने में भी, जो बरसों चलता रहा।

लेखिका के बारे में: जन्म 1954 में। पेशे से पत्रकार। आप छात्र आंदोलन से नारी मुक्ति आंदोलन तक अनेक आंदोलनों से  जुड़ी रही हैं। आपने दिल्ली विश्वविद्यालय से एमए की पढ़ाई की है। दिल्ली पत्रकार संघ के लिए ‘26/11' यानी मुंबई पर आतंकी हमले की मीडिया में रिपोर्टिंग पर आप चर्चित समालोचना की सहलेखिका हैं। राजस्थान में बंधुआ मज़दूरी और दिल्ली में घरेलू कामकाज में बाल मज़दूरी पर आपके शोध-पत्र भी प्रकाशित हो चुके हैं। आप हिंदी-अंग्रेजी, दोनों भाषाओं में लेखन करती हैं। आपने कई नुक्कड़ नाटक लिखे और उनमें अभिनय भी किया। अंग्रेजी में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस के स्कूली पाठ्यक्रम और वेब मैगज़ीन 'आउटऑफ प्रिंट' सहित हिंदी और अंग्रेजी में आपकी कई कहानियों का प्रकाशन हो चुका है।

किताब के बारे में: पेज-304, वर्ष-2016, भाषा-हिंदी, प्रकाशक-राजकमल प्रकाशन, मूल्य-225
First published: July 12, 2016
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर